सिर्फ इसलिए किसी की बात का समर्थन नहीं करें की वह पढ़ा लिखा है

February 16, 2020
समझदारी साबित करने की चीज़ नहीं है  | समझदारी तो दिखाने की बात होती है | अधिकतर लोग आर्थिक लाभ  कमाने  और पढ़ लिख जाने को समझदारी समझते है |
https://goo.gl/images/Zka1fo
  जबकि समझदारी का क्षेत्र बहुत विस्तृत है सकारात्मक सोच समझदारी की परिचायक है  | खुद  को  तथा परिवार को  स्वस्थ्य रखना भी समझदारी है घर परिवार तथा समाज के साथ ताल मेल बैठना भी समझदारी है |
https://goo.gl/images/ksrxGD

समझदारी कभी भी किसी का बुरा करने में नहीं दिखती किसी को नीचा  दिखाने में नहीं दिखती  लड़ने झगड़ने में नहीं दिखती | किसी को दुःख पहुंचने या दुखी होने में नहीं दिखती बात बात पे गुस्सा  होने तथा चिड़चिड़ाने पे नहीं दिखती | रो रो कर ज़िंदगी जीने में नहीं दिखती |
https://goo.gl/images/rYdAG8

समझदारी तो दिखती है लड़ाई झगड़ों को रोकने में किसी का भला करने  में किसी को ऊपर उठाने में किसी को सुख पहुंचाने और सुखी दिखने में समझदारी दिखती है हसने हँसाने प्रसन्नचित रहकर स्वस्थ रहने और तनाव मुक्त जीवन जीने में | समझदारी दिखती है विपरीत परिस्थिति में निर्णय लेने की क्षमता में |  अक्सर लोग किताबी ज्ञान से  या पढ़ाई  लिखाई  में अव्वल आने को समझदारी समझते है |  जो बिल्कुल  गलत है |  यही वजह है की आधुनिक युग में कम पढ़े - लिखे,  गरीब तथा बुजुर्गो की समझदारी भरी बातो को गौण  कर आधुनिक दिखने वाले और पढ़े  लिखे लोगों  के गलत कामों  गलत तर्कों  को भी प्रशंसा प्राप्त हो जाती है  |    सिर्फ इसलिए किसी की बात का समर्थन नहीं  करें  की वह पढ़ा  लिखा है  | तर्कों  और परिस्थतियों  को समझ कर  समर्थन करें  चाहे वो अमीर  हो या गरीब  बुजुर्ग हो या नौजवान स्त्री हो या पुरुष  शिक्षित हो या अशिक्षित  छोटा हो या बड़ा  |  किसी की प्रतिभा को नजरंदाज नहीं करे  चाहे किसी के पास उसकी डिग्री हो या ना हो  | लोगों  की क्षमताओं को पहचान कर उनका आकलन करना बहुत जरूरी है |   समाज को सही दिशा देने में ये बहुत ही महत्व पूर्ण  कदम हो सकता है | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.