पैसा बहुत कुछ है परन्तु सब कुछ नहीं

 पैसा बहुत कुछ होता है  सब कुछ तो नहीं |  इस बात के समर्थन में लोग हामी जरूर भरते देखे जा सकते है लेकिन वास्तविकता इससे कुछ और ही है |  आज हर किसी के लिए पैसा सब कुछ ही हो  गया है  तभी तो लोग अपने फायदे के लिए रिश्ते नातों  तथा व्यवहारिकता को भूल कर दूसरों  को नुक्सान पहुंचाते  वक्त ये  साबित कर  देते है की पैसा ही सब कुछ है |  परन्तु ऐसी सोच रख कर  व्यक्ति  दूसरों  का तो  नुक्सान कर रहा है  अपना भी कोई फायदा नहीं कर रहा है |  जिस तरह से आप अपने फायदे के लिए किसी और को नुक्सान पहुंचा रहे  है उसी प्रकार कोई और अपने फायदे के लिए आपको नुक्सान पहुंचा रहा है  | और आप अपने आप को यह कह कर समझदार साबित करने में लगे हुए है कि  ही सब  कुछ है  |  यकीन मानिये ये आपकी बहुत बड़ी गलत फहमी है |   आप सिर्फ नुक्सान नुक्सान खेल रहे है |   क्योँकि  जो लोग पैसो का फायदा देखते है  वो सिर्फ अपने बैंक बेलेंस और धन सम्पदा के केलकुलेशन तक ही सीमित  रह जाते है    उन्हें तन और मन के फायदे नजर ही नहीं आते है |   जबकि वास्तव में आप  अपनी एसेट्स का सही आकलन करना चाहते है तो  अपनी गुडविल को भी उसमे शामिल करें   सिर्फ धन सम्पदा के आधार पर  आपकी वेल्यू नहीं आंकी  जा सकती |  
https://images.app.goo.gl/y9We5z5Vh9oxnKt16

 जिस तरह किसी भी व्यापार  की वेल्यू  का आंकलन करने के लिए  लाभ में उसकी गत वर्षो  की  गुडविल को भी शामिल किया जाता है     उसी प्रकार किसी भी मनुष्य की वेल्यू का आंकलन भी उसकी धन सम्पदा के साथ साथ उसकी गुडविल से लगाया जाता है    जो वक्त आने पर ही पता चलती है  उसके जीवन काल में उसका व्यवहार , स्वभाव, मानवीय दृष्टिकोण,  सामाजिकता , पारिवारिक जिम्मेदारियों  की  भूमिका  उसकी  गुडविल  के आंकलन करने में महत्वपूर्ण होती है   |  परन्तु व्यक्ति जीवन भर पैसे के पीछे दौड़ने में इन सबको भूल जाता है और अपनी धन सम्पत्ति  को बढ़ता हुआ देख देख कर  उसी  से ही अपनी  वेल्यू आँकता  रहता है |   उसकी असली वेल्यू तो अंत समय में पता चलती है जब कुछ  लोग उसकी धन सम्पदा के लिए  लड़ते झगड़ते है   या उस पर चर्चा करते है  | और कुछ लोग उसके व्यवहार, स्वभाव , मानवता , सामाजिकता का आंकलन करते है  |
https://images.app.goo.gl/2VewBL7oBnPVZzYG7


  यकीन कीजिये  धन सम्पत्ति  पर चर्चा करने वाले लोग उसकी जल्द से जल्द मैात की कामना करते है  लेकिन  व्यवहार, स्वभाव,  मानवता ,सामाजिकता का आंकलन करने  वाले लोग उसकी जिंदगी के लिए आंसू बहाते  है  |    तब यह बात  कह जाती  है पैसा बहुत कुछ होता है  सब कुछ तो नहीं सब कुछ तो उसके कर्म पर ही निर्भर होता है | यदि लोग यह बात समझने लग जाए कि  पैसा बहुत कुछ है परन्तु सब कुछ नहीं  तो दुनिया की बहुत सी समस्याएं समाप्त हो जाए |   जिसमे सबसे बड़ी समस्या  जो आज महामारी का रूप ले चुकी है वह  है टेंशन    यदि परिवार में सुख शांति और बिना टेंशन के जीवन जीना चाहते है तो इस बात पर जरूर अमल करें  की पैसा बहुत कुछ है परन्तु सब कुछ नहीं | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.