आज हम आपके लिए लाये है चित्तोड़ के किले का विहंगम दृश्य

December 03, 2019
चित्तौड़  का किला 

कहा  जाता है गढ़ तो बस चित्तोड  का  बाकि सब गढ़ैया इस गढ़ की भव्यता  और शिल्पकला ने इस बात को साबित कर दिया है  चित्तौड़ के किले से जुडी ऐतिहासिक बातें  आज हमारे सामाजिक और पारिवारिक जीवन के लिए महत्व पूर्ण हो सकती है रिश्ते नातो मान सम्मान और स्वाभिमान का पाठ पढ़ाती  घटनाये रिश्तों व    स्वामिभक्ति के लिए प्रेरणा बन सकती है | उसी की यादगार ऐतिहासिक इमारतें आज हम आपके लिए लाये है चित्तोड़ के किले का विहंगम  दृश्य




https://images.app.goo.gl/P2wCtMY8KMR3hVgG7

                                                     यह है चित्तोड़ के किले का विहंगम  दृश्य



https://images.app.goo.gl/UJzK86a7rqP3LxuX8


यह महल है रानी पद्मनी का |  ऐसा माना  जाता है की इसी महल की सीढ़ियों पर खड़े होकर रानी पद्मनी ने   अलाउद्दीन  खिलजी  को आईने  में अपनी शक्ल देखने की अनुमति दी थी  |  अलाउद्दीन खिलजी ने दूसरी और लगे शीशे में उसकी झलक देखी  थी |


https://images.app.goo.gl/89DhvGHMTAgXmayA6

     यह है चित्तौड़  के किले का प्रमुख आकर्षण विजय  स्तम्भ जो  शिल्पकला का अनुपम उदाहरण है |


https://images.app.goo.gl/zr4o6zJzADDAYcmPA

चित्तौड़  के किले के साथ कई  नाम जुड़े हुए है |  जिनमे एक नाम है मीरां बाई का मीरां बाई ने चित्तोड़ के किले में रहकर कृष्ण भक्ति की थी  |  बाद में उन्ही के नाम से यहां  मीरां  बाई का मंदिर बनाया गया  | 



https://images.app.goo.gl/tjJL5XP77drtZADN6
चित्तोड़ के किले में देखने लायक कई  चीजें  है  उनमे यहां के स्तम्भ भी है जिन की शिल्प कला आज भी भारतीय विरासत है  कीर्ति स्तम्भ भी शिल्प कला का एक अद्वितीय उदाहरण है 



https://images.app.goo.gl/T5k33WTP3kuLhVT5A

पति  की मृत्यु के बाद राजपूत स्त्रियाँ अपने स्वाभिमान की रक्षा के लिए अपने आप को जलती हुई चिता  के हवाले  कर दिया करती थी जिसे जोहर कहा  जाता था |  रानी पद्मनी ने भी राणा रतन सिंह की मृत्यु के बाद हजारों  महिलाओ  के साथ इसी स्थल पर जौहर किया था |  रानी पद्मनी ने हजारों  महिलाओ  के साथ इस स्थल पर  किया था जौहर |  आज हम आपके लिए लाये है यह ऐतिहासिक जानकारी जो राजपूतों  की आन  बान  शान 
का जीता जागता  उदाहरण  है | |
  लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 



No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.