जीवन से जुडी इन 10 बातों को कभी इंसानियत नहीं कहा जा सकता

December 24, 2019
आज के इस माहौल में हर व्यक्ति अपने आप को असहज महसूस कर रहा है |  सामाजिक परिवेश में दैनिक माहौल को सुधरने की आवशयकता हर व्यक्ति महसूस कर रहा है  |  इसके लिए जो उपाय करने चाहिए उसकी सलाह भी हर व्यक्ति दूसरो को दे कर इति  श्री भी कर रहा है |  परन्तु खुद पर जब बात आती है तो कोई उस पर अमल नहीं करना चाहता |  बिगड़े हुए माहौल को सुधरने की जिम्मेदारी सिर्फ मुखिया जी की ही नहीं होती |  उसमे सभी को अपना अपना योगदान देना होता है |  और माहौल को सुधारने में   सबसे बड़ा योगदान होता है इंसानियत का जिसे हमे  मन से और श्रध्दा से करना चाहिए |कुछ बाते  ऐसी होती है जो इंसानियत की श्रेणी में नहीं आती और इन्ही की वजह से बड़े- बड़े  विवाद हो जाते है  | हम आपको बताने जा रहे है वो दस बाते  जिन से अक्सर विवाद खड़े होते है |


https://images.app.goo.gl/STJsL9tWD4krPp1t6


  जीवन से जुडी  इन  10  बातों  को कभी इंसानियत नहीं कहा  जा सकता | 

1 उधार  के पैसे मांगने पर विवाद करना |

२ बस  या ट्रेन में फेल पसर कर बैठना दूसरो के द्वारा सीट मांगने पर विवाद करना  |

3 बच्चों  के विवादों को सुलझाने के बजाय बड़ो का आपस में झगड़ा करना |


https://images.app.goo.gl/6JyALhKXUH3U7y8N9


4  बात बात में आत्महत्या की धमकी देना |

5 अपने पड़ोसियों से विवाद बनाये रखना |

6 महिलाओं  के मान सम्मान को ठेस पहुंचाना |

7 अपने अधिनस्थो  से जानवरों जैसा व्यवहार करना |


https://images.app.goo.gl/8Fwx7siJdybEoZ6w5


8 बिना जानकारी के आवेश में आकर किसी से भी मार पीट कर देना |

9 एक दूसरे की चुगली करना |

10 कुंठा ,गुस्सा अहंकार पाल कर रखना |


यदि हर इंसान ये छोटी छोटी इंसानियत दिखा दे तो मनुष्य आज जितने तनाव झेल रहा है उसमे बहुत बड़ी कमी देखने को मिले |  जब उसे छोटे मोटे  तनावों से मुक्ति मिलेगी छोटे मोटे  विवाद खत्म होंगे तो उसे बहुत बड़ा सुकून मिलेगा |  और फिर वह  बड़े विवादों को सुलझाने की तरफ कदम बड़ा पायेगा  | अक्सर हमारी दिनचर्या इन छोटे विवादों में उलझ कर रह जाती है | यदि हम इंसानियत दिखाना शुरू करे तो दूसरे भी इस पर अमल करना शुरू कर देंगे | जीवन से जुडी  इन बातों पर गौर करके   हर व्यक्ति अपने जीवन का आनंद वर्तमान में ले सकेगा |


No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.