बाल दिवस मनाने के पीछे मूल मकसद

बाल दिवस मनाने के पीछे मूल  मकसद

बाल दिवस यानी बच्चों  का दिन जिसे हम प्रति वर्ष 14  नवम्बर को कई  वर्षो से मनाते आये है |  इस दिवस को हम बाल  दिवस के रूप में मनाते जरूर है परन्तु जिस मकसद को लेकर इस दिवस की शुरुआत की गई  थी उस मकसद को हम भूल चुके है | बाल दिवस मनाने के पीछे मूल मकसद बच्चों  को निर्भीक और  तनाव मुक्त जीवन जीने के लिए प्रेरित करना है | जबकि आज  आधुनिक युग में तीन साल के   बच्चे की शिक्षा के लिए माता पिता जिस कदर चिंतित है उससे साफ़ जाहिर होता है की  बाल दिवस मनाना मात्र औपचारिकता  करना है  |  आज  इस एजुकेशन ने बच्चों  का बचपन छीन लिया  छोटे- छोटे   बच्चे ना  ठीक से सो  पा रहे है ना ठीक से खा पा है ना खुल कर हँस  पा रहे है ना रो  रहे है |  खेल कूद भी स्कूलों के भरोसे पर रह गया है |  पारम्परिक खेलों  से  दूरी  बनाने  की  वजह से   इंटरनेट के गेम्स ही बच्चो  के  दोस्त बन गए है  |

https://images.app.goo.gl/SprMMSfdXXGCbfn48


 प्यार मोहब्बत नहीं मिल पाने से बच्चे अकेलापन के शिकार हो  जाते है 

  पढ़ाई  लिखाई  का दबाव बच्चों  पर इस  कदर  होता है   की माता पिता  रिश्ते नातो  से दूरी  बनाने पारिवारिक कार्यक्रमों  से दूर रहने पर बच्चों  को   मजबूर कर  देते है  |    यही  कारण है की बच्चों  में रिश्ते नातो   की समझ  कमजोर पड़ती  जाती  है  |   अपनापन प्यार मोहब्बत नहीं मिल पाने से बच्चे अकेलापन के शिकार हो  जाते है  |  छोटे छोटे बच्चों  से इस उम्र  में जरूरत  से  ज्यादा अनुशासन की अपेक्षा करना बच्चों  में तनाव  कुंठा पैदा करता है | अनुशासन  रखना बुरा नहीं है परन्तु जिस उम्र में बच्चा अनुशासन का अर्थ तक समझ पाने  सक्षम ना  हो  उस नाजुक उम्र में उसके कंधों  को हम किताबों  और अनुशासन के बोझ तले दबाकर उसके बचपने को तो खत्म कर ही रहे है साथ ही उसकी छुपी हुई प्रतिभा को बहार आने से भी रोक रहे है |बाल दिवस मनाने का  मकसद हमारा तब ही पुरा होगा जब हम बच्चों  को उनका बचपन लौटाने में कामयाब होंगे  |


https://images.app.goo.gl/F9eDWPG9NGDDEQ5e7


 एक कली को फूल बनाने के लिए जरूरी है


 हम अपने आप से पूछ कर  देखें  जब हमारे ऊपर काम का बोझ पड़ता है हम पर जब बेवजह कोई दबाव बनाने की कोशिश करता है तो  हमारे मन में   किस तरह के विचार चलते है |   कोई हताश , उदास,  निराश  होता है तो  कोई कुंठित,  दुखी और परेशान नजर आता हर कोई   तनाव में आकर  अनुशासन भूल जाता  है  तो तीन साल के  छोटे बच्चे से हम क्यों अनुशासन की इतनी अपेक्षा रखते है ?   इस उम्र में पढ़ाई  लिखाई  और अनुशासन से ज्यादा जरूरी है बच्चे का बचपना , उसका स्वास्थ्य, उसकी चंचलता , उसकी मुस्कान, उसका तनाव मुक्त होना  जो एक कली को फूल बनाने के लिए जरूरी है |   जो कच्ची मिट्टी  से बनाये  मटके को आकार देने के लिए जरूरी है |बाल दिवस पर ना सही हमें  जब भी अवसर मिले बच्चे की  मुस्कान उसे  अवश्य लौटाए |


https://images.app.goo.gl/HNoyYvADdNcQGqnS8

नंबर वन की यह  अंधी दौड़

आधुनिक शिक्षा की इस होड़ में  अधिकतर कलियाँ   फूल बनने से पहले  ही मुरझाने लगी है |    कच्ची मिट्टी  को आकार देने में शिक्षा के शिल्पकारों को भी  कठिनाई महसूस होने  लगी  है  |  शिक्षा के प्रति जागरूकता  जागरूकता नहीं बल्कि अंधी दौड़ बन गई है जिसमे हर कोई  अपने  बच्चे की प्रतिभा जाने बगैर नंबर वन  की दौड़ में शामिल है | इस दौड़ के परिणाम स्वरूप शिक्षा के क्षेत्र  में बहुत बड़े परिवर्तन की जरूरत महसूस होने लगी है मासूम बच्चो के बचपन को लौटाने के लिए उन्हें हीन  भावना, कुंठा, द्वेषता से बचाने   के लिए हर माता पिता को सोचना होगा |  हर शिक्षाविद को अपनी राय प्रकट करनी होगी |  वरना अंको की यह   अंधी दौड़ कहीं  मृग मारीचिका  बन कर महामारी का रूप ना लेले  | बाल दिवस मनाने के मकसद को हम बाल दिवस के दिन ही नहीं बल्कि आज  भी पूर्ण कर सकते है  |



लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 


No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.