क्या आज हर घर में पैसो की तंगी महसूस नहीं की जा रही है

October 10, 2019


अमीरी गरीबी जीवन के साथ चलती है ये जीवन का हिस्सा है |  हम आज आपके लिए लाये है कुछ पुरानी  तस्वीरें जो लोगो के जीवन स्तर को दर्शाती है |  लोगो के पास पुराने समय में पैसा भी हुआ करता था परन्तु जीवन स्तर ऊँचा नहीं था |  एक पड़ा लिखा  इंसान भी  साधारण पहनावा पहनता था  |  परन्तु पहनावे और बोलचाल से पढ़े  लिखे और अनपढ़ का पता लगाया जा सकता था  |  लेकिन इंसान चाहे पढ़ा  लिखा होता था या अनपढ़ इंसानियत हर व्यक्ति में दिखाई देती थी  |  इतना स्वार्थ और लालच नहीं दिखाई देता था  जितना आज के इस आधुनिक युग में दिखी देता है  |  आज शिक्षा का स्तर भी ऊँचा उठा है, लोगो का जीवन स्तर  भी ऊँचा उठा है, परन्तु फिर भी  इंसानियत का स्तर ऊंचा नहीं उठा है  |  आज लोगो के  पहनावे बोलचाल से  ना पढ़े  लिखे होने का  का अंतर् पता चलता है ना इंसानियत का |  ना अमीरी पता चलती है ना गरीबी  |  कौन व्यक्ति कैसा  होगा इसका पता भी बहुत देर से चल पाता है |  अब तो धोखा खाने के बाद ही इंसान की फितरत पता चल पाती है  | अच्छे इंसानो को हर कोई ढूढ़ता  फिर रहा है परन्तु उसकी यह खोज ही पूरी नहीं हो पाती है |   ये  कुछ  तस्वीरें बयान  करती है  पुराने लोगों  के जीवन का  अलग अलग अंदाज | 


https://images.app.goo.gl/Hw8QtVqhZ7CbHhgLA

ये थे प्राची वाद्य यंत्र जिनमे व्यक्ति की प्राकृतिक कला का प्रदर्शन होता था  साथ ही साथ शारीरिक व्यायाम भी होता था  आज के युग में इलेक्ट्रॉनिक वाद्य यंत्रो का उपयोग किया जाता  है | 

https://images.app.goo.gl/6DKRWELFAfY36RQ86
  ये तस्वीरें लोगो के मनोरंजन को दर्शाती है  |  किस तरह से लोग अपने  खाली समय में मनोरंजन कर के खुशहाल जीवन ली लिया करते थे | आज मनोरंजन के नाम पर सब अपने फेस बुक और वाट्स एप पर बीजी है | 
मनोरंजन तनाव दूर करने के लिए किया जाता है जबकि आज हम जो भी साधन या माध्यम मनोरंजन के लिए अपना रहे है वो हमारे स्वस्थ पर विपरीत प्रभाव डाल रहे है  दूसरा मनोरंजन के ये साधन हमारी जेब पर भी भरी पद रहे है  चाहे वो मोबाईल हो या  बड़ी बड़ी होटलो की पार्टियाँ

https://images.app.goo.gl/mHcepkHACDZDMmfQ6


अपनी आजीविका के लिए लोग खेती करके इस तरह अपना जीवन व्यतीत करते थे  |  अपने काम धंधे के बाद दिन अस्त और मजदूर मस्त |   लेकिन आज रात दिन एक करने के बावजूद हर इंसान और अधिक  पैसा कमाने के लिए भागता दौड़ रहा है उसकी यह दौड़ खतम ही नहीं हो रही  |

https://images.app.goo.gl/b8CsMZ7fBiwchkuH9
 महिलाये इस तरह घर के आंगन की लिपाई गाय  के गोबर से   किया करती थी | जो प्राकृतिक कीटाणुनाशक का काम करता था |  आज जिन केमिकल युक्त कीटाणुनाशकों का प्रयोग किया जाता है वो प्राकृतिक नहीं होते है | 
https://images.app.goo.gl/PzLsQPjnyHDvUCtV8
  बच्चो की बीमारी में इस तरह देखभाल की जाती थी घर के नुस्खों से ही बीमारी को ठीक किया जाता था  | अस्पताल का रस्ता तो बहुत बड़ी बीमारी में देखा जाता था |  आज छोटी- छोटी बीमारियों पर तुरंत अस्पताल का रुख किया जाता ही और लाखों  रूपये  तुरंत खर्च कर दिए जाते है  | 

क्या आज हम अच्छी पढ़ाई  लिखाई  अच्छी इनकम अच्छे  पहनावे  अच्छी सुख सुविधाओं के बावजूद तनाव में जीवन जीने पर मजबूर नहीं है ?  क्या घर के सभी लोगों की कमाई के बावजूद  हर  घर में पैसो की तंगी महसूस नहीं की जा रही है ?   क्या  आज बच्चे अपना बचपन जी पा  रहे है  ?  क्या  हम हमारे बुजुर्गो का ख्याल सही तरीके से  रख पा रहे है ?  कैसा पारिवारिक जीवन हो गया है यह जिसे ना सह  पा रहे है ना कह पा रहे है ?

लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 

  

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.