देना है तो दीजिये जनम जनम का साथ

October 04, 2019
देना है तो दीजिये जनम जनम  का साथ



                                                 https://images.app.goo.gl/QHoQhfuDx9fN7jRJ6

देना है तो दीजिये जनम जनम  का साथ  ये एक लोकप्रिय भजन की पंक्तिया है जिसे भक्त भगवान के श्री  चरणों में प्रार्थना  के रूप में समर्पित कर रहा है  इस तरह की प्रार्थना या तो  भक्त  अधिकार के साथ  भगवान  से  एक  कर सकता है या पति  पत्नी दूसरे से  | आप   किसी का साथ दे या ना दे लेकिन पति  पत्नी  के लिए यह बहुत ही जरूरी है की वो एक दूसरे का साथ भले ही जनम  जनम  के लिए ना दे परन्तु एक जनम  के लिए तो अवश्य दे  | और दोनों  के लिए  ये बहुत ही जरूरी है की एक दूसरे का साथ मात्र लोगो के दिखावे के  लिए ना   दे |  बल्कि साथ एक दूसरे से रिश्ता मजबूत करने के लिए दे |  एक दूसरे का हौसला बढ़ाने के लिये दे |  एक दूसरे के दुःख दर्द बाँटने के लिए दे |  एक दूसरे की ख़ुशी के लिए दे |  परिवार की सुख शांति के लिए दे |   आपका साथ देना जब सार्थक  होगा  जब सामने वाले को भी महसूस हो की आप  वास्तव में साथ दे रहे है |   यदि आप किसी का साथ दे ही रहे है तो  इन बातो पर अवश्य गौर करें  | 

                                             
                                            https://images.app.goo.gl/NM8Q7oShEi4LNdXF7

1 आपके क्रिया कलापों  से सामने वाला खुश है या नहीं |

 2 आप उस से खुश है या नहीं  |

3 आपका साथ देना व्यवहारिक है या मात्र दिखावा  |

4 आपके साथ देने से किसी समस्या का  निकल  है  किसी नतीजे पर पहुँच रहे है  या समस्या  बड़  रही है |

5  साथ देने से दूरियां बढ़ रही है या नजदीकियां  |

6 रिश्तो में मधुरता बन रही है या कटुता |



                                                https://images.app.goo.gl/LbHwR4StoBqNFCaM9


इन बातो पर गौर किये बिना यदि आप किसी का साथ दे रहे है  और गृहस्थी की गाड़ी को आप घसीट रहे है तो  आप बहुत बड़ी गलत फहमी पाले  हुए है  या तो आप नासमझ है ,अहंकारी है, जिद्दी है  क्योकि एक समझदार व्यक्ति कभी छलनी में पानी भरने का काम  नहीं करता  |  समझदार व्यक्ति कभी अपनी  गृहस्थी को घसीट घसीट कर नहीं चलाता |   जब  तक रिश्तो में दूरियां बनी रहेगी, संबंधो में मधुरता नहीं होगी, चेहरे पर मुस्कुराहट नहीं होगी, माहौल खुशनुमा नहीं होगा एक दूसरे का साथ देना कभी सार्थक नहीं होगा |  इन बातो को मान कर आप सबक लें  आपके जीवन की बड़ी से बड़ी कठिनाई का हल इन्ही से निकलेगा  |  इसलिए यदि आप जिद्दी है तो जिद्द का त्याग करें|  कुंठित है तो कुंठाओ को त्यागे  | अहंकार का त्याग करना  तो आपके जीवन को सर्वश्रेष्ठ बनाता ही है |  समझदार होने की गलत फहमी नहीं पाले  एक समझदार व्यक्ति कभी रिश्तो को दाँव  पर नहीं लगने देता |

 लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें 


No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.