इन कटु सत्यों को लोग मानने और समझने को तैयार नहीं है

October 15, 2019



कोई स्वास्थ्य को बड़ी दौलत  मानता है कोई  मुस्कान को

आज लोग बड़े कंफ्यूज  है  पैसे को महत्वपूर्ण माने या सोच को, रिश्तो को महत्व दे या पैसो को , अमीर को महत्व दे या गरीब को, इंसान को महत्व दे या इंसानियत  को, छोटे को महत्व दे या बड़े को, स्त्री को महत्व दे या पुरुष को,  कोई स्वास्थ्य को बड़ी दौलत  मानता है कोई  मुस्कान को |  किसी के लिए  घर जमीन जायदाद ही सब कुछ है  | किसी के लिए प्यार मोहब्बत ही सबसे बड़ी दोलत है  |  लेकिन कोई सही नतीजे पर पहुंच ही नहीं पा रहा है  की असल में दौलत  कहें  किसे ?   किसी को कुछ समझ नहीं आ रहा है  लेकिन हम आपके लिए लाये है इस कन्फ्यूजन का एक हल जो आपको नए अंदाज में जीवन जीने की प्रेरणा देगा जीवन के लिए  नए रस्ते खोजेगा |इन कटु सत्यों  को लोग मानने और समझने को तैयार नहीं है | 
https://images.app.goo.gl/fj9yVoeeuPRLBmNY6

यह सोच ही अमीर इंसान को गरीब भी  साबित कर  देती है 

जीवन जीने के लिए दो चीजों का होना महत्व पूर्ण है पैसा और सोच  |   लेकिन दोनों में से यदि एक को चुनना पड़े तो पैसे की बनिस्पत सोच जीवन जीने के लिए महत्वपूर्ण होती है |  क्योकि पैसे  से सोच को नहीं बदला जा सकता लेकिन सोच यदि सकारात्मक हो तो गरीब भी अमीर बन सकता है | यह सोच ही अमीर  इंसान को गरीब साबित कर  देती है  | सोच यदि सही हो तो स्वास्थ्य को  सही रखना सबसे बड़ी दौलत है  | रिश्तो को सहेजना उन्हें बनाये रखना सबसे बड़ी दौलत   होती है |  मान सम्मान प्रतिष्ठा तथा आपका खिलखिलाता चेहरा आपकी सबसे बड़ी धन सम्पदा है |  पैसे से इंसान को खरीदा जा सकता है इंसानियत को नहीं |  इस दृष्टि से इंसानियत सबसे बड़ी दौलत  है |  पैसे के लिए इंसान मरने मारने पर उतारू हो जाता है | लेकिन  सकारात्मक सोच वाले इंसान  हमेशा जीवन जीने की बात करते है  |  जीवन को जीने के लिए प्रेरित करते है |  तब सकारात्मक ऊर्जा से लोगो का जीवन बचाया जा सकता है |  किसी को मरने मारने के लिए बाध्य नहीं किया जा सकता  नकारात्मक सोच से अमीर  से अमीर व्यक्ति भी तनाव ग्रस्त रह सकता है |  यदि सोच सकारात्मक हो तो गरीब व्यक्ति भी अपने जीवन को तनाव मुक्त होकर जी सकता है | इन कटु सत्यों  को लोग मानने और समझने को तैयार नहीं है | 

https://images.app.goo.gl/DVBsHjLjCTKHAZ8g6

इस कटु सत्य को लोग मानने को बिलकुल भी तैयार नहीं है

  पैसा कमा कर भी लोग उसका सदुपयोग तभी कर सकते है जब सोच सकारात्मक होगी |  इंसान अपनी सोच से सीमित साधनो  और कम आय में भी अपने काम को सही मैनेज कर सकता है |   परन्तु नकारात्मक सोच के चलते लोग अथाह पैसो के भंडार को भी खो देते है |  और आर्थिक परेशानियों को निमंत्रण दे देते है  |  इंसान की सोच से ही खोया हुआ धन वापस प्राप्त  किया जा सकता है |  टूटे हुए रिश्तो को जोड़ा  जा  सकता है  |  सबसे बड़ी बात जिसे आज अधिकतर लोग मानने को तैयार नहीं है |  पैसो से  दुखो को कम नहीं किया जा सकता जितना सोच से किया जा सकता है  |  पैसो से उतने सुख प्राप्त  नहीं किये जा सकते जितने सोच से किये जा सकते है |  परन्तु इस कटु सत्य को लोग मानने को बिलकुल भी तैयार नहीं है |   आपकी सोच आपके पैसे और जीवन दोनों को खत्म भी कर सकती है और बनाये भी रख सकती है |  इसलिए हमेशा पोजेटिव सोचे पोजेटिव सोच को आपकी सबसे बड़ी धन दोलत समझे | लोग आपका साथ तब तक ही देंगे जब तक  आपका  पैसा चलेगा  |  लेकिन आपकी सोच आपके जीवन के साथ- साथ चलेगी जीवन  के बाद भी चलेगी |

https://images.app.goo.gl/Sc1k7LJPuVjkAiJb7

 आओ तो  वेलकम जाओ तो भीड़ कम

 लोगो को आपके जीवित रहने पर तो आपकी याद आएगी ही परन्तु  जीवन के बाद भी आपकी सोच लोगो के दिलो में जिन्दा रहेगी | इसलिए अपने जीवन को सार्थक  बनाने के लिए  अपनी सोच को इस तरह का बनाये की लोगो को आपकी याद सोते- जगते ,  हँसते-  रोते , आते -जाते, खाते- पीते  |   हर वक्त आये  लोग  दुःख आने पर आपको याद करें परन्तु  खुशियों में तो   सबसे पहले आपको याद करे  |   सोते वक्त आपको याद करके सोये और सुबह उठते ही सबसे पहले आपको याद करें  | आपकी   सोच इस तरह की ना  हो की लोगो को ये महसूस  हो की आओ तो  वेलकम जाओ तो भीड़ कम  |  यह आपकी सोच पर ही निर्भर है की लोग खाते पीते  वक्त भी आपको याद करे |   खाना उनके गले से तब उतरे जब  उन्हें आपका चेहरा खुश नजर आये  |  आपके चेहरे के नूर से ही खाना खाने का मन हो  |  ऐसा  आपकी  सोच के  जादू  से ही सम्भव हो सकता है  |  ऐसी सोच हर किसी की नहीं बन पाती है  ये सोच उन लोगो की बन पाई है जिनके घर में भले ही जगह कम हो परन्तु दिल में बहुत  बड़ी जगह हो |   पैसे से भले ही गरीब हो परन्तु दिल के आमिर हो और सब कुछ हो बस  इंसान सोच से गरीब ना हो |  उम्र से भले ही छोटा हो लेकिन   सोच से कभी  छोटा ना  हो | इन कटु सत्यों  को लोग मानने और समझने को तैयार नहीं है |


लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.