इन्ही बातो से तय होता है आप की कथनी और कहनी का फर्क

October 17, 2019

जैसा हम चाह  रहे है वो सम्भव भी है या नहीं

कोई भी काम जितना आसान लगता  है  उतना होता नहीं है |  जब  हम उसे खुद  करके  देखते  तब हमे हकीकत पता चलती है  | ऐस लिए हम किसी को भी कोई सलाह बहुत आसानी से दे देते है |  हम उसे कर पाए या नहीं लेकिन दूसरो से हम अपेक्षा रखते है ये तो बहुत आसान सा काम था ? इसलिए कोई भी बात मुँह से निकालने से पहले ये अवश्य देखें  की जो कुछ हम कह रहे है वो व्यवहारिक भी है या नहीं  |  जैसा हम चाह  रहे है वो सम्भव भी है या नहीं |  जो अपेक्षा हम दूसरो से रख  रहे है उस पर हम भी खरे उतरेंगे या नहीं | इन्ही बातो से आप की कथनी और कहनी का फर्क तय होता है  |

 ये कथनी  और करनी का फर्क इंसान की असफलता तय करता है

इंसान की कथनी और करनी का फर्क नजर तब आता  है जब वह  करता कुछ है कहता कुछ है |  चाहता कुछ है और मन में कुछ और छुपा के रखता है |  ये कथनी  और करनी का फर्क इंसान की असफलता तय करता है | जो लोग अपनी कथनी और करनी के फर्क को नहीं समझ पाते है वो जीवन में कभी किसी का भरोसा नहीं जीत पाते है |   उसका यही स्वभाव लोगों के बीच  प्रतिष्ठा बनाने में बाधक होता है  | उस इंसान की प्रतिष्ठा हमेशा बनी रहती है जो अपनी कथनी के अनुसार अपने कार्य को अंजाम देता है ,  अपने वचन पर टीका  रहता है |  ये  अलग बात है  किसी बड़ी वजह या परिस्थिति के विपरीत होने के कारण अपनी  कही  गई  बात पर नहीं रह पाना  सम्भव ना हो |  परन्तु उसका यह अर्थ भी नहीं है की उसकी कथनी में फर्क कहा  जाये |

https://images.app.goo.gl/MJowCjNwvoSRSGGd7

  दूसरो के भरोसे पर बात कहना हमेशा कथनी को बिगड़ देता है 

कथनी का फर्क तब कहा  जाता है जब कोई बार- बार अपनी कही  बात से मुकर जाए |  या बार- बार उसके लिए वो दूसरों  को दोषी ठहराए  | इसलिए इंसान को वही  करना चाहिए जो वो खुद के भरोसे पर कर सकता हो, या खुद के दम  पर करने का माद्दा रखता हो  |  दूसरो के भरोसे पर बात कहना हमेशा कथनी को बिगड़ देता है |  सिर्फ ख्याली पुलाव पकाना  या शेख चिल्ली की तरह असम्भव बात को करने के लिए हाँ कहना आपके लिए नुक्सानदायक हो सकता है  | कोई भी बात तथ्यों पर आधारित कहें  तर्क संगत और व्यवहारिक बात हमेशा आप की कही  गयी बात को सही साबित करेगी |  जबकि तर्क हीनऔर अव्यवहारिक बात आपकी उपलब्धियों को भी नीचे  गिरा देगी | लोगो के बने बनाये  विश्वास को तोड़ देगी |

https://images.app.goo.gl/cdjfxSZ7rfGmYeo1A

  
 लोग अपनी कही  बात से तुरंत पलट जाते है 

जिस तरह किसी भी चीज को बिगाड़ना बड़ा आसान होता है लेकिन बनाना बड़ा मुश्किल होता है |  चाहे वो रिश्ते हो या विश्वाश ये दोनों ही अक्सर बिगड़ते है तो हमारी कथनी और करनी के  फर्क की वजह से | आज लोगो के आपसी रिश्ते बिगड़ने की कई  वजहें  है परन्तु उनमे से एक वजह यह  भी है लोग अपनी कही  बात से तुरंत पलट जाते है  |  की बार स्वार्थ की वजह से तो कई  बार परिस्थिति की वजह से |  कई  बार चाहते हुए भी हम हमारी बात पर नहीं रह पाते  है |  परन्तु इसकी वजह से निराश, हताश, उदास होने की जरूरत नहीं  है |




https://images.app.goo.gl/pJKrv7uB9ANyZkh1A




 ईमानदाराना प्रयास  भी आपकी कथनी का गवाह बन  सकता है

जितना सम्भव हो सके उतना प्रयास अपनी  बात  पर रहने का ईमानदारी से  करते रहे यह ईमानदाराना प्रयास  भी आपकी कथनी का गवाह बन  सकता है |  लेकिन यदि आप अवसर वादी बन कर अपनी गलती या अपने दोष दूसरों पर रोपित करेंगे तो वो भी आपकी कथनी के लिए नुक्सान दायक हो सकता है  | इसलिए प्राण जाये पर वचन न जाये वाली कहावत भले ही सिद्द नहीं करे |  परन्तु इतना विश्वास अवश्य दिला दे की सामने वाला आपकी मजबूरी या परिस्थिति को समझ कर  आपके प्रयासों की सराहना करें  |




लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.