ममता ,प्यार मोहब्बत, स्नेह महिलाओं को गॉड गिफ्ट मिला है

October 10, 2019
 महिलाये अपनी  गॉड गिफ्ट का सदुपयोग करें 

एक अच्छी माँ ही नहीं, एक अच्छी पत्नी ही नहीं, एक अच्छी बहू  ही नहीं , एक अच्छी बेटी ही नहीं ,बल्कि अपने आप को  एक अच्छी  स्त्री साबित करें  | और यह सब सम्भव होगा जब आप परिवार के हर सदस्य के प्रति अपनी जिम्मेदारी दिल से निभएगी न की दबाव से  | चाहे आप काम काजी महिला हो परन्तु परिवार के लोगो के साथ प्रेम मोहब्बत से पेश आना उनके बीच  अपनी सकारात्मक छवि प्रस्तुत करता  है | महिलाओं  का मुस्कुराता चेहरा हर किसी को सुकून देता है  वहीं  चिड़चिड़ाहट और हताशा  नकारात्मक माहौल बनाती है  माना की आज के इस आधुनिक यग में महिलाये कंधे से कंधा  मिलाकर सहयोग कर रही है |  अपनी योग्यता अनुसार घरगृहस्थी को संभाल रही है | परन्तु फिर भी महिलाओ के सामने आज भी चुनोतिया बनी हुई है | इन चुनोतियो से हताश और निराश होने के बजाय उनका उचित समाधान निकाले  |  महिलाये अपनी  गॉड गिफ्ट का सदुपयोग करें 


https://images.app.goo.gl/uUUsJbgudXX465JC6

  


 ममता ,प्यार मोहब्बत, स्नेह महिलाओं  को गॉड गिफ्ट मिला है

  इसका उचित उपयोग   घर गृहस्थी में खुशहाली लाने का सबसे महत्वपूर्ण जरिया हो सकता है | घर गृहस्थी में जितने विवाद पुरुषो के नहीं होते है उससे कही  ज्यादा महिलाओं  के बीच  होते है |  इसीलिए महिलाओं  की जिम्मेदारी बनती है की आपसी तालमेल  बना कर रखे | महिला महिला की परेशानी समझे  |  आपस में एक दूसरे का सहयोग करे एक दूसरे से अपनी समस्या  शेयर करे |  जहाँ   ममता लुटाने की जरूरत हो वहां ममता लुटाये |  जहां  स्नेह की जरूरत हो वहां स्न्नेह की बौछार कर दे |  जिन्हे प्यार मोहब्बत की जरूरत हो उन्हें प्यार  मोहब्बत  के रंगो में रंग दे |   फिर देखे परिवार में हर रोज खुशहाली का माहौल नजर आने लगेगा |   जहां प्रेम अपना रंग  बिखेरता है वहां लोग सुख सुविधाएं और आभाव भूल जाते है  | और फिर वहां शुरू होती है एक दूसरे की फ़िक्र परवाह और जब इंसान फ़िक्र और परवाह करना सीख जाता है तो बढ़ती है नजदीकियां  | इसीलिए खा जाता है  ममता ,प्यार मोहब्बत, स्नेह महिलाओं  को गॉड गिफ्ट मिला है |


https://images.app.goo.gl/VVgd1Qrm5jzVTsjb6

यह  सच्चा प्यार करने वालों  के लिए गॉड गिफ्ट ही है

और नजदीकियों से ही रिश्ते मजबूत होते है |   न   सिर्फ रिश्ते मजबूत होते है बल्कि एक दूसरे के साथ बंध भी जाते है |  जब रिश्ते बंध  जाते है  तो एकता मजबूत  होती है  जो अपनेपन की मिसाल कायम करती है  |  चाहे फिर पति  पत्नी के झगड़े  हो  या सास बहू  के |   प्यार मोहब्बत, ममता की तड़प  ज्यादा दिन इन विवादों को दिलो में जगह नहीं दे पाते सच्चा प्यार ,  एक दूसरे के साथ बिताये गए पलो की यादे, उन्हें लम्बे समय तक दूर नहीं रख सकती |  ये यादे किसी न किसी को जरूर अपनी गलती का एहसास करा देती है  |  किसी न किसी को पछतावे के  आँसू  बहाने  पर मजबूर कर देती  है  |  किसी न किसी के दिल को जरूर पिघला देती है |  प्रेम ऐसी चीज  जो नफरत   को कभी पलने नहीं देती |   मोहब्बत करने वाले लोग कभी एक दूसरे के बिना नहीं रह सकते  | चाहे सास बहू   हो पति  पत्नी हो या  भाई भाई |यह  सच्चा प्यार करने वालों  के लिए गॉड गिफ्ट ही है

https://images.app.goo.gl/PMtuJ2PjJTGekjws7


|जीवन का सच्चा आनंद तो समझने वालो के लिए गॉड गिफ्ट ही है  

 प्रेम की ताकत को समझे | परिवार के लोगो के साथ प्यार मोहब्बत अपनापन एक दूसरे के मान सम्मान को तो बढ़ाता ही है   बल्कि विवादों को जल्द खत्म करने में भी महत्व पूर्ण भूमिका निभाता है | इसलिए परिवार के सभी सदस्य एक दूसरे को इतना प्यार करे की बिना उनके  उत्सव  की शुरुवात नहीं की जा सके |  बिना उनके  कोई पार्टी का आयोजन नहीं हो |  बिना उनके खाना खाने  का मन तक ना हो |  इस कदर का प्रेमालय अपने परिवार को बनाये |    इसमें परिवार के हर सदस्य की भूमिका महत्वपूर्ण हो , विशेषकर महिलाओ की  |  बहू  बेटी तथा  सास और माँ में कोई अंतर् ही ना कर सके |  जीवन का सच्चा आनंद  महिलाओं द्वारा ऐसी   मिसाल कायम करने  से सम्भव होगा ना की महिला का महिला से दुश्मनी रखने और  पुरुषो के प्रति  बेरुखी रखने से |जीवन का सच्चा आनंद तो समझने वालो के लिए गॉड गिफ्ट ही है  

लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.