ये है रेड एंड वाइट स्माइली मूत्र विसर्जन गृह

September 24, 2019


एक समय था जब घरों  में टॉयलेट बनवाना बुरा समझा जाता था |  महिलाओ को शौच क्रिया से निवृत होने में बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ता था | लेकिन धीरे धीरे इस मिथक से पर्दा उठा और लोगों  ने घरो में टॉयलेट बनवाने शुरू किये  | लेकिन  इतने प्रयासों के बावजूद बड़े- बड़े शहरों में रेलवे लाइन को  आज भी सार्वजनिक शौचालय  के रूप में उपयोग किया जाता है |    ग्रामीण क्षेत्रो में जंगल आज भी इसी काम में  आ  रहे है  | लेकिन हमे सोचना   चाहिए खुले में शौच जाने से जहां पर्यावरण को नुकसान  होता है वही  कई  बार लोगो को शर्मिंदगी  भी महसूस  करनी  पड़ती  है  |  जो एक सभ्य इंसान के हित  में नहीं होता है|   इसलिए घरो में शौचालय का निर्माण अवश्य करना   चाहिए |  कम खर्च में भी शौचालय का निर्माण करवाया जा सकता है  | सरकारी योजनाओ की जानकारी लेकर भी घरो में शौचालय बनवाया जा सकता है  |  | शौचालय केनिर्माण के साथ  साथ शौचालय की साफ़ सफाई  का ध्यान रखना भी जरूरी है |  वास्तु शास्त्र के अनुसार भी  शौचालय को साफ़ सुथरा रखना जरूरी है  | | आज घरो में एक से एक डिजाइन के शौचालय तथा मूत्रालय का निर्माण करवाया जाता है |  कुछ अजीबो गरीब और हास्यास्पद मूत्रालयों और शौचालयों  की कुछ तस्वीरें हम आपके लिए लाये है |




https://images.app.goo.gl/eULjM3juPep7EFsD8

ये है रेड एंड वाइट स्माइली मूत्र विसर्जन गृह


https://images.app.goo.gl/HYZ1KLAu2L8b4vZQ6

ये है बैंड  बाजा मूत्रालय



https://images.app.goo.gl/st6NgpekeUV4yihA9
इसका नाम है स्कूटर जन सुविधा



https://images.app.goo.gl/h9RwLj2DTJf4BBH29

इसे मिकी माउस टॉयलेट कहा  जाता है |


दोस्तों ये सब आपके मनोरंजन के लिए जरूरी है परन्तु इस मनोरंजन के पीछे जो मकसद छुपा है वो एक ही है | आप चाहे इसे लाइक करे या न करे, शेयर करे या न करे ,लेकिन जिन घरो में टॉयलेट की सुविधा नहीं है उन्हें टॉयलेट के निर्माण के लिए प्रेरित करे |  अपने घरो में साफ़ सफाई रखे |  शौच के बाद बच्चो को  साबुन से हाथ अच्छी तरह धोने के लिए प्रेरित करे |   जिससे की बीमारियों से बचाव हो सके, पर्यावरण स्वच्छ रह सके  | 



No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.