इंसानियत कहीं कहीं तो जन्म लेती ही है

September 12, 2019

इंसानियत कहीं कहीं तो जन्म लेती ही है

  
आज ऐसा माना  जाने  लगा है की दुनिया में इंसानियत नाम की कोई चीज ही नहीं है  और शायद यह सच भी है क्योकि हम उन छोटी छोटी चीजों को नजरंदाज कर देते है जो असहाय  बेसहारा और लाचारों के लिए जीने का सहारा होती है और जब किसी की आत्मा तृप्त होती है तो न जाने किस के मुँह से क्या दुआ निकल जाये और आपकी किस्मत बदल जाये  इसी कर्म में हम आपके किये लाये है इंसानियत  दिखती कुछ तस्वीरें जो आपके दिल को जरूर छुएंगी | 



https://images.app.goo.gl/ufotNko26yYegynB8


 जहां आज इंसान  इंसान  के  खून का प्यासा है वहां किसी प्यासे  की  प्यास बुझाने के लिए एक बच्चे की सोच यह  प्रदर्शित करती है की इंसानियत अभी जिन्दा  है |
https://images.app.goo.gl/uVHn86PXuMseEpZLA


 में भी इन बच्चो की तरह खेलना चाहती हूँ ताज्जुब है मुझे? ये प्यास बुझा रहे है या खेल रहे है ? शायद ये  खेल भी रहे है , प्यास भी बुझा रहे है  और हंस भी रहे है और में सिर्फ पढ़  रही हूँ |



https://images.app.goo.gl/4bZYkdx3wP2tB7tu7

मेरी छतरी के नीचे आजा  क्यों भीगे कुतिया खड़ी खड़ी  जानवरो के प्रति ये सोच भी हर किसी के बस की बात नहीं है


https://images.app.goo.gl/HPw46WJdMwyBUTmL7

मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना हिंदी है हम वतन है हिन्दोस्ता हमरा |


https://images.app.goo.gl/YfR8FL54viYLSh4C8

रोते  नहीं है बेटे मै  भी तुम्हारे पिता समान हूँ  तुम ये पहन लो मै  और ले आऊंगा   |

जानवरो पशु पक्षियों बेसहारा लाचारों असहायों  के प्रति दया नहीं  बल्कि इंसानियत दिखाईये दया दिखाकर हम उन्हें बेचारा बना देते है   उन्हें बेचारा साबित मत कीजिये बल्कि इंसानियत दिखाकर  इंसान  होने का फर्ज अदा कीजिये  |

लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 



No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.