इस मामले में मैं बहुत सिद्धांतवादी हूँ

September 02, 2019
ये  मेरा सिध्दांत है,  ये तो  मेरा सिध्दांत ही नहीं है, इस मामले में मैं बहुत सिद्धांतवादी हूँ, भाई मेरे तो सिद्धांत ही अलग हैं, मैं इस  सिद्धांत को नहीं मानता , इस तरह के कई वाक्य हम दिनभर में कई बार बोलते और सुनते हैं | लेकिन बहुत कम लोगों को पता है की सिद्धांत की असल परिभाषा क्या होती है ?  हम किन सिद्धांतों की  बातें करते हैं  ?  सिध्दांत होते क्या  हैं ?  इस आधुनिक युग में  सिध्दांतों की अधिकतर बातें  अपनी स्वार्थ पूर्ति के लिए की जाती है |    वो   नियम ,   जिनका नापतोल, लम्बाई- चौड़ाई यहाँ तक की ऊंचाई भी निश्चित होती  है |   यानि सिध्दांत का एक निश्चित पैमाना और   निश्चित शर्तें होती है |



https://images.app.goo.gl/kPQDNvgkwv8GtPFH9


  आज के इस युग में सिध्दांतों की बात करना मज़ाक करने के समान हो गया है |   क्योंकि मजाक में भी हम सिध्दांत ले आते हैं |  जिसका कोई और छोर नहीं होता |  गति यानि आगे निकलने की दौड़ ,  वायु यानि हवा में उड़ना, हवा से बातें करना, बल यानि  ताकत | इन्ही सिद्वांतो  के यूज से  नहीं बल्कि मिस यूज से  हम जीवन जी रहे है |   न्यूटन, अलबर्ट आइंस्टाइन, होमी जहांगीर भाभा जैसे वैज्ञानिकों ने हमारे लिए  गति, बल, वायु के सिद्धांतों का प्रतिपादन किया जिससे नए- नए आविष्कारों का जन्म हुआ इन आविष्कारों ने हमे प्रगतिशील और आधुनिक बनाया | लेकिन इन्ही  आविष्कारों का दुरूपयोग कर हम एक दूसरे से आगे निकलने की होड़ में लग गए और सभी सिध्दांतों को किनारे कर हम पूंजीवाद के सिद्वांतो पर कार्य करने लगे |
https://images.app.goo.gl/2izMWi3ibTeeQQD87



 रिश्तो की ताकत बढ़ाने के बजाय, खुद की ताकत बढ़ाने के बजाय हम   पूँजी की ताकत बढ़ाने में लग गए |  स्थिति यह हो गयी पूँजी की ताकत के आगे फौलादी मनुष्य की ताकत भी पिघलकर कम हो गयी है |  यही पूंजी बिना सिध्दांतों के अपना कार्य करने लगी | आज हमारे देश के महान वैज्ञानिकों ने सामाजिक हितों को सोचकर जिन आविष्कारों को जन्म दिया  पूँजीवादी सिध्दांत ने रिश्तो को बिगड़ कर  आविष्कारों के महत्व को बहुत काम कर दिया | यदि हम गति, बल, वायु के सिद्वांतो  का उपयोग यदि रिश्तो को बनाने परिवार को जोड़ने समाज को जागरूक करने  में करे तो परिवारों में सुख शांति और खुशहाली का माहौल बन सकता है समाजवाद की बात की जा सकती है |



https://images.app.goo.gl/mnEg93veHbW15YX17


लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 


No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.