बच्चों को इन कामो के लिए अवश्य प्रेरित करे माता पिता

September 11, 2019
 बच्चों  को इन कामो के लिए अवश्य  प्रेरित करे माता पिता

माता पिता बच्चो के सबसे बड़े गुरु होते है | बच्चो का सबसे बड़ा विश्वास माता पिता पर होता है | इसलिए माता पिता बच्चो को किसी भी काम को करने के लिए प्रेरित कर सकते है | बच्चो की आदतें  उनका स्वभाव ,व्यवहार बदलने का सबसे बड़ा जिम्मा माता पिता का होता होता  है | बचपन से ही यदि बच्चो में कुछ आदतें  विकसित कर दी जाये तो परिवार में सुख समृद्वि  और खुशहाली का माहौल बना रहता है |  ये है कुछ अच्छी आदते जो हर माता पिता को अपने बच्चो में  डालनी चाहिए |
https://images.app.goo.gl/zxgt84PDLAvkjViR7

सुबह  उठ कर बड़ो का आशीर्वाद 

परिवार में   हमेशा प्यार मोहब्बत बनाये रखने के लिए बुजुर्गो का मान सम्मान जरूरी होता है  |  आज की इस भगाती  दौड़ती जिंदगी में  सुबह उठकर स्कूल जाने की जल्द बाजी में  और  रात  होमवर्क में गुजर जाती है  |   बच्चो के पास बुजुर्गो  से मेल मुलाकात का समय ही नहीं होता है | अक्सर हम भी इस बात को इसलिए नजरंदाज कर जाते है की बच्चे का समय खराब होगा उनकी पढाई  लिखाई बाधित होगी |  इस मानसिकता से हम बच्चो की परिवार के बुजुर्गो से दूरी बना देते है | जिससे उनका सामाजिक विकास नहीं हो पाता | जबकि  शैक्षणिक विकास के साथ साथ बच्चों  का सामाजिक विकास भी जरूरी है |   बुजुर्गो का सामीप्य बच्चो के सामाजिक विकास के लिए बहुत ही जरूरी है और इस के लिए जरूरी है बुजुर्गो का आशीर्वाद  रोजाना के आशीर्वचन में कहे दो  शब्द बच्चो की जिंदगी में कितना बड़ा परिवर्तन ला देंगे आप कल्पना भी नहीं कर सकते  |


शौच से निवृति


स्कूली पढ़ाई  बस निकलने के डर से  बच्चे  शौच से ठीक प्रकार से निवृत नहीं हो पाते जिस कारण से पेट की कई  बीमारियों का शिकार हो जाते है माता पिता की यह जिम्मेदारी होनी चाहिए की बच्चा ठीक  से शौच से निवृत हो

https://images.app.goo.gl/G6F9s8tnhvYMuNNU8


दाँतो की देखभाल एवं   साफ़  सफाई 

बचपन में यदि दांतो की देखभाल यदि सही तरिके से नहीं की जाये तो दांतो में कीड़ा लगने का अंदेशा हो जाता है  ठीक से दांतो में ब्रश नहीं कर पाने की वजह से दंत संबंधी कई  बीमारिया बचपन से ही बच्चों  में लग जाती है मुँह से बदबू आना मसूड़ों से खून निकलना दांतो का पीला होना ये सभी दांतो की ठीक से देखभाल नहीं करने की वजह से होते है  बच्चे चाकलेट व आइसक्रीम के शौकीन होते है इन्हे खाने के बाद यदि दाँत  ठीक से साफ़ नहीं किये जाये तो दांतो में कीड़ा लगने की संभावना होती है   इसलिए  माता पिता को बच्चो को दन्त ठीक से साफ़ करने के लिए प्रेरित करना  चाहिए  |



  
https://images.app.goo.gl/s5rvwTMupUzLrAxYA


 सच बोलने की आदत 

बच्चे अक्सर डर  की वजह से छोटी छोटी गलतियों को छुपाने की कोशिश करते है और उसके लिए झूठ बोलने की कोशिश करते है माता पिता का यह फर्ज बनता है की सच्चाई  तक पहुंचने की कोशिश करे गलती चाहे आपके बच्चे की हो या अन्य बच्चे की उन्हें डांटने डपटने के बजाय प्रेम प्यार से उनकी गलती का एहसास कराये मार पीट  और डांट  डपट से बच्चे कुंठित हो जाते है  उन्हें अपनापन देकर सच बोलने के लिए प्रेरित करे



खेल कूद में लड़ाई झगड़ा 

बच्चे अक्सर खेल कूद में लड़ाई झगड़ा कर बैठते है बच्चो के आपसी विवादों में सही  गलत का पता लगाना बड़ा मुश्किल हो जाता है ऐसे में एक समझदार माता पिता बने बच्चो के विवादों में बड़ो की लड़ाइयों से बचे क्योकि बच्चे तो फिर एक हो जायेगे आपस में एक दूसरे के साथ फिर से खेलेंगे इसलिए सूझबूझ से काम ले बच्चों  की लड़ाई बड़ो का दंगल न बन जाये
https://images.app.goo.gl/21e9SZdYxPx3DxDKA


समय का महत्व

हम बच्चोँ को अनुशासन में रखने के लिए उन पर पाबंदिया लगा देते है याद रखें  पाबंदिया लगाना कभी भी अनुशासन का हिस्सा नहीं हो सकता | समय की पाबंदी के साथ साथ समय की नियमितता पर भी फोकस  करे क्योकि  कुछ कामो को समय पर करना जरूरी होता है उनमे समय की पाबंदी जरूरी होती है परन्तु कुछ काम ऐसे भी होते है जो आज की जगह कर पर टाले  जा सकते है उनमे समय की पाबंदी जरूरी नहीं होती है हम बेवजह समय की पाबंदी के चक्कर में बच्चो पर वजन बड़ा देते है जिससे बच्चे तनावग्रस्त हो जाते है |



लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 


No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.