इन 10 बातों को कभी भी इंसानियत नहीं कहा जा सकता

September 30, 2019


आज के इस माहौल में हर व्यक्ति अपने आप को असहज महसूस कर रहा है |  सामाजिक परिवेश में दैनिक माहौल को सुधरने की आवशयकता हर व्यक्ति महसूस कर रहा है  |  इसके लिए जो उपाय करने चाहिए उसकी सलाह भी हर व्यक्ति दूसरो को दे कर इति  श्री भी कर रहा है |  परन्तु खुद पर जब बात आती है तो कोई उस पर अमल नहीं करना चाहता |  बिगड़े हुए माहौल को सुधरने की जिम्मेदारी सिर्फ मुखिया जी की ही नहीं होती |  उसमे सभी को अपना अपना योगदान देना होता है |  और माहौल को सुधारने में   सबसे बड़ा योगदान होता है इंसानियत का जिसे हमे  मन से और श्रध्दा से करना चाहिए |कुछ बाते  ऐसी होती है जो इंसानियत की श्रेणी में नहीं आती और इन्ही की वजह से बड़े- बड़े  विवाद हो जाते है  | हम आपको बताने जा रहे है वो दस बाते  जिन से अक्सर विवाद खड़े होते है |


https://images.app.goo.gl/STJsL9tWD4krPp1t6


  इन  10  बातों  को कभी इंसानियत नहीं कहा  जा सकता | 

1 उधार  के पैसे मांगने पर विवाद करना |

२ बस  या ट्रेन में फेल पसर कर बैठना दूसरो के द्वारा सीट मांगने पर विवाद करना  |

3 बच्चों  के विवादों को सुलझाने के बजाय बड़ो का आपस में झगड़ा करना |


https://images.app.goo.gl/6JyALhKXUH3U7y8N9


4  बात बात में आत्महत्या की धमकी देना |

5 अपने पड़ोसियों से विवाद बनाये रखना |

6 महिलाओं  के मान सम्मान को ठेस पहुंचाना |

7 अपने अधिनस्थो  से जानवरों जैसा व्यवहार करना |


https://images.app.goo.gl/8Fwx7siJdybEoZ6w5


8 बिना जानकारी के आवेश में आकर किसी से भी मार पीट कर देना |

9 एक दूसरे की चुगली करना |

10 कुंठा ,गुस्सा अहंकार पाल कर रखना |


यदि हर इंसान ये छोटी छोटी इंसानियत दिखा दे तो मनुष्य आज जितने तनाव झेल रहा है उसमे बहुत बड़ी कमी देखने को मिले |  जब उसे छोटे मोटे  तनावों से मुक्ति मिलेगी छोटे मोटे  विवाद खत्म होंगे तो उसे बहुत बड़ा सुकून मिलेगा |  और फिर वह  बड़े विवादों को सुलझाने की तरफ कदम बड़ा पायेगा  | अक्सर हमारी दिनचर्या इन छोटे विवादों में उलझ कर रह जाती है | यदि हम इंसानियत दिखाना शुरू करे तो दूसरे भी इस पर अमल करना शुरू कर देंगे | हर व्यक्ति अपने जीवन का आनंद वर्तमान में ले सकेगा |


No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.