नकारात्मक गुस्सा हमारे मन और शरीर को बोझिल बनाये रखता है

August 25, 2019
 गुस्सा भी हमे गुस्से लायक बात पर ही करना चाहिए 

गुस्सा एक स्वाभाविक क्रिया है | यह दो तरह का होता है नकारात्मक और सकारात्मक अधिकतर लोग नकारात्मक  गुस्से से अपना जीवन जीते हैं |  जो लोग बेवजह के गुस्से का  प्रदर्शन करते है  उन्हें पता ही नहीं होता की जिस बात पर वो गुस्सा कर रहे हैं वो गुस्से लायक भी है या नहीं |  गुस्सा भी हमे गुस्से लायक बात पर ही करना चाहिए |


https://images.app.goo.gl/ins95g2dNU1qYwvL7

 क्या होता है  नकारात्मक और सकारात्मक   गुस्सा ? 

  जब गुस्से के साथ  कुंठा पाल ली जाती है तो वो बिना बात का गुस्सा बन जाता है |  और यही गुस्सा नकारात्मक गुस्सा कहलाता है |  जो खुद के स्वास्थ्य के लिए भी नुकसानदायक होता है और दूसरों को भी नुकसान पहुंचाता है |  कई बार गुस्सा वाजिब  बात पर भी  किया  जाता है |  ऐसा गुस्सा कुछ देर  के लिए होता है और धीरे- धीरे माहौल के साथ साथ शांत हो जाता है | इस गुस्से में नफरत और कुंठा शामिल नहीं होने की वजह से यह गुस्सा सकारात्मक कहलाता है | 


https://images.app.goo.gl/AhMXFdQZpmPzpr696




 नकारात्मक गुस्सा हमारे मन और शरीर को बोझिल बनाये रखता है 

  कई बातों में लालच स्वार्थ या अपने हित  को साधने के लिए तथा अपने आप को सही साबित करने के लिए  दबाव बनाने के लिए  गुस्सा किया जाता है |   इसके परिणाम गुस्सा करने वाले और गुस्सा झेलने वाले दोनों के लिए घातक होता है |   नकारात्मक गुस्सा हमारे मन और शरीर को बोझिल बनाये रखता है  | नकारात्मक  गुस्से से जहाँ स्वास्थ्य को नुकसान होने की संभावना होती है वहीँ द्वेषता  की वजह से दुश्मनिया पल  जाती है  |नकारात्मक गुस्से में कभी भी प्यार मोहब्बत का एहसास नहीं होता | नकारात्मक गुस्सा रिश्तो को बिगड़ देता है | 
https://images.app.goo.gl/Y7aY7TNpqJKPxEtW9

 सकारात्मक गुस्सा गलतियों का पछतावे के रूप में  एहसास करा देता है

सकारात्मक गुस्सा वक्त आने पर एक दूसरे को अपनी गलतियों का पछतावे के रूप में  एहसास करा देता है | जिससे रिश्तो में प्यार मोहब्बत बनी रहती है  और  रिश्तो में बिखराव नहीं आता | इसलिए गुस्सा भले ही करें लेकिन सकारात्मक गुस्सा करें जो खुद के स्वास्थ्य पर भी असर नहीं डालें दूसरों तक आपके गुस्से का असर भी पहुंचे साँप  भी  मर  जाये और लाठी भी न टूटे  | गुस्सा कुछ देर के लिए तो ठीक होता है परन्तु छोटी- छोटी बातों  के लिए जीवन भर गुस्सा पाले रखना इंसान को कुंठित करता है | नफरत  करना सीखाता है अपनों से दूर करता है  | 

https://images.app.goo.gl/ERZMyk1W78fL2Gnv6

लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 




No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.