रिश्ते जब बिगड़ते है तो विपत्ति लेकर आते है

August 27, 2019

जिन रिश्तो में प्यार मोहब्बत एहसास भावनाये नहीं हो वो रिश्ते कभी सफल रिश्ते नहीं हो सकते एक दूसरे के साथ बात चीत का न होना  रिश्तो के बिगड़ने का सबसे बड़ा प्रमाण होता है रिश्ते जब बिगड़ते है तो विपत्ति लेकर आते है इसलिए रिश्तो को बिगड़ने से बचने का हर सम्भव प्रयास करना  चाहिए | चाहे वो परिवार के हो दोस्ती के हो या पड़ोसियों के हो | 



https://images.app.goo.gl/H2QWnHfZZkm1yy8ZA
 रिश्ते एक दूसरे की हिम्मत होते है किसी के लिए कुछ करना न करना  अलग बात है  रिश्ते होने का एहसास तो कंधे पर हाथ रखने के अंदाज से ही हो जाता है  | यदि किसी से कोई  रिश्ता रखते है तो रिश्ता जताने की आवश्यकता नहीं है बल्कि वक्त आने पर दिल से  उसकी  हिम्मत बनने की जरूरत है | 



https://images.app.goo.gl/aPwWVdtmaVx54c3K8


 अक्सर लोग प्यार का अर्थ लगाने में बड़ी चूक कर जाते है किसी को किसी से प्यार उसकी धन दौलत  की वजह से होता है | किसी को मान सम्मान और प्रतिष्ठा  से होता है | किसी को सुख सुविधा से होता है परन्तु असली प्यार रूठने मनाने  मान जाने  मन की बात को बिना कहे समझ जाने से झलकता है | दिल से किये गए प्यार को कोई कितना भी छुपा ले वो छुप नहीं सकता और बिना मन के किये गए प्यार का कोई कितना भी दिखावा कर ले वो भी सामने आ ही जाता है प्यार का असली मजा है एक रूठे दूसरा मनाये परन्तु रूठने   और मनाने में जीवन जीना ही नहीं भूल  जाये लड़ाई से प्यार खत्म नहीं हो बल्कि प्यार से लड़ाई खत्म हो सोरी कह देने  से ही   गीले शिकवे दूर हो जाये ऐसे प्यार करने  वालो के पास जाने में  मुसीबते भी घबरा जाती है |


https://images.app.goo.gl/pPUPvoa2JSUUrc987
बिना भावनाओ के रिश्ते कभी नहीं जुड़ सकते अपनापन प्यार दुःख दर्द महसूस करना और कराने  की भावना यदि मजबूत नहीं है तो रिश्ते कभी भी बिखर सकते है और यदि यही भावना मजबूत है तो जीवन के बड़े से बड़े तूफान भी रास्ता बदल कर निकल जायेगे जीवन में अच्छा बुरा समय हर व्यक्ति के साथ आता है उस बुरे वक्त को एक दूसरे की भावनाओ के सहारे  एक दूसरे की भावनाओ को समझ कर  आसानी से गुजरा जा सकता है |




https://images.app.goo.gl/z6Df1LtNdZgiN9627
रिश्ते  नातो में यदि बात चीत का कोई माध्यम नहीं है तो ऐसे रिश्तों  का कोई अर्थ नहीं है वो रिश्ते सिर्फ नाम के रिश्ते होते है यदि रिश्तो में सलाह मशवरा न हो एक दूसरे की कमियों पर एक दूसरे की अच्छाइयों बुराइयों  पर एक दूसरे के गुणों  अवगुणो पर एक दूसरे की सही गलत बात पर बात चित नहीं होती है  तो ऐसे रिश्ते साइलेंट मोड़ पर हो जाते है | जो परिवार की उन्नति में बाधक होते है परिवार में नकारात्मक ऊर्जा का संचार करते है परिवार के बिखराव और दुर्दशा के लिए जिम्मेदार होते है  | इसलिए रिश्तो में बात क्युकी बात चीत चीत कभी बंद नहीं होने दे  क्योकि बात चीत  ही एक जरिया है जो बंद रास्तो को भी खोल देती है |  

लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.