जिस तरह से मुरझये फूलअच्छे नहीं लगते उसी प्रकार मुरझाये चेहरे भी अच्छे नहीं लगते

August 03, 2019
                                           मुरझाये फूल किसी को समर्पित नहीं किये जाते 
https://images.app.goo.gl/PnUJxajWzGcynxbm9





मुरझये चेहरे भी किसी की शोभा नहीं बड़ा सकते


फूल हमेशा खिले हुए अच्छे लगते हैं |  मुरझाये हुए फूल कभी किसी की शोभा नहीं बढ़ा सकते न ही उन्हें किसी को समर्पित किया जाता है | जिस तरह से मुरझये फूल अच्छे नहीं लगते उसी प्रकार मुरझाये चेहरे भी अच्छे नहीं लगते | मुरझये चेहरे कभी किसी की शोभा नहीं बड़ा सकते |  सुंदर और खिले हुए चेहरे सभी को प्रिय होते हैं, आकर्षित करते हैं |  भगवान ने रूप रंग हमे जैसा भी दिया है उसमे हमारा कोई दोष नहीं है |  हमारा दोष यह होता है की हम भगवान द्वारा दिये गए चेहरे को फूलों की तरह खिलाकर  ताजा नहीं रख पाते हैं |  उन्हें बेवजह मुरझाए हुए फूलों की तरह रखते हैं | 
https://images.app.goo.gl/n3J2PdF5jjXEHBEp8

 हताशा निराशा और दुःख  से चेहरा मुरझा जाता है

 हमारे  मन की सुंदरता हमारे चेहरे को फूलों की तरह खिला कर रखती है |   जिन लोगों के मन सुंदर होते हैं उन्हें चेहरे  के लिए सौंदर्य प्रसाधनों का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं पड़ती |  जिन लोगों के मन खिले हुए नहीं होते हैं उनका चेहरा सुन्दर  होते हुए भी मुरझाया नज़र आता है |  हताशा निराशा और दुःख  से चेहरा मुरझाजाता है |   इसलिए जीवन में कितना  भी संघर्ष करना पड़े, कितना भी दुःख झेलना पड़े, हताश और निराश नहीं हो |
https://images.app.goo.gl/rpL4gUaQj4KzbsAk7

 खिले हुए चेहरे खुशहाली का प्रतीक होते हैं

  हताशा हमारे मन को प्रभावित करती है और मन के मुरझाने  से चेहरा मुरझाया नजर आता है |  फिर चेहरे को  सुन्दर दिखाने के लिए  सौंदर्य प्रसाधनो की ज़रुरत पड़ती है |  जिस तरह से प्रकृति उसकी हरयाली की वजह से सुन्दर दिखती है, लोगों को आकर्षित करती  है,  खुशहाली का प्रतीक होती है,  उसी तरह से हमारे खिले हुए चेहरे खुशहाली का प्रतीक होते हैं |  लोगों को पॉजिटिव  बनाये रखने में  हमारे खिले हुए चेहरे की भूमिका महत्वपूर्ण होती है | इसलिए मन को ज्यादा से ज्यादा  खुश और प्रसन्नचित्त  रखने की कोशिश करें  | 
https://images.app.goo.gl/Tb2351N2tuQRYhjLA

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.