आखिर क्यों नहीं बना पाते हैं हम लोगों से तालमेल

August 28, 2019
आखिर  क्यों नहीं   बना पाते हैं  हम लोगों से तालमेल  

जीवन में दुखी होने की बहुत सारी वजह हो सकती है परन्तु दुखी होने की सबसे महत्वपूर्ण वजह है सकारात्मक नहीं सोच पाना |  सकारात्मक नहीं सोच पाने की वजह से हम लोगों से तालमेल नहीं बना पाते हैं  | यही  वजह नकारात्मक माहौल बना देती है |  छोटी- छोटी बातों को दिल पर लेकर हम दुखी होते रहते हैं |  मसलन  उसे ऐसा नहीं करना चाहिए था , उसने ऐसा क्यों  कह दिया, मै तो उससे कभी बात भी नहीं करूँगा, मेरी बात को कोई सुनता ही नहीं है, मेरी बात कोई मानता ही नहीं है, इन्ही बातों के लहजे में छिपी हुई है सकारात्मकता और नकारात्मकता | 
https://images.app.goo.gl/nMEuk5Vg5k8tkVmQ6

   बोले गए शब्द ही देते है सकारात्मक  और नकारात्मक सन्देश

 यही शब्द यही वाक्य जब हम सकारात्मक होकर खुले मन से बिना दुःख के व्यक्त करेंगे तो सकारात्मक सन्देश जायेगा |  इन्ही शब्दों को हम दुखी होकर व्यक्त करेंगे मन को मैला करके कहेगे तो नकारात्मक सन्देश जायेगा |  इसी से हमारी सोच की  सकारात्मक और नकारात्मक प्रदर्शित होती है |  लोगों के बीच तालमेल बनाने और बिगड़ने की मुख्य वजह यही होती है |  जिस बात को  मजाक में बोलना होता है उसे हम नकारात्मक होकर हमारे लहजे से व्यंग्य का रूप दे देते हैं जो लोगों को चुभने लगता है |  और यही बात   जब हम सकारात्मक होकर बिना व्यंग्य के टालने के उद्देश्य से  बोलेंगे तो वो मजाक का रूप ले लेता है |  फिर माहौल खुशनुमा हो जाता है  |
https://images.app.goo.gl/fX9ZUQMBP8DLGgrn8

सफलता  और मान सम्मान पाने की  वजह सकारात्मक सोच ही होती है


  यही बातें हमे समझनी भी सकारात्मक होकर ही पड़ेगी क्योंकि यदि  इन्हे हम नकारात्मक होकर समझेंगे तो मजाक की जगह वो व्यंग्य लगेगी |  जो लोग पॉजिटिव   बोलते  हैं पॉजिटिव सुनते हैं पॉजिटिव सोचते हैं  और पॉजिटिव समझते हैं बिगड़ी हुई परिस्थितियों को भी अपने पक्ष में करने  की  क्षमता रखते हैं |  सफलता  और मान सम्मान पाने की अधिकतर वजह सकारात्मक सोच ही होती है |   जो लोग नेगेटिव होकर बोलते हैं सुनते  हैं और सोचते हैं वो खुशनुमा माहौल को भी बिगाड़ देते हैं | 
https://images.app.goo.gl/uBpxNrRqSj4CFskU7


सोचने , समझने, बोलने, सुनने में  सकारात्मक बने

  हमारी इसी सोच की वजह से सही बाते गलत और गलत बात सही  लगने लगती है |   रिश्तो में अक्सर सोचने, समझने, बोलने, सुनने के अंदाज ही  तालमेल को बिगाड  देते है |     फिर  एक दूसरे पर दोषारोपण करते  हुए दूरियां बढ़ाकर सारा जीवन इसी तरह गुजार देते हैं और जीवन  का आनंद ख़त्म कर लेते हैं |  यदि जीवन का सच्चा आनंद लेना चाहते है तो सोचने , समझने, बोलने, सुनने में  सकारात्मक बने |


https://images.app.goo.gl/g6hjqqMLHqYkwRgS7
लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 


No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.