विपरीत परिस्थितियों में भी यदि कोई चाहे तो अपनी किस्मत पलट सकता है

August 20, 2019

यदि यह कहा जाए के  मनुष्य का जीवन परिस्थिति का गुलाम  है तो शायद कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी |  क्योंकि परिस्थिति की वजह से  इंसान वह सब कुछ नहीं कर पाता जो वह चाहता है |  परिस्थितियां उसकी अच्छाइयों का दमन कर  देती हैं, परिस्थितियां मजबूरी पैदा कर देती हैं , परिस्थिति ही उसकी हिम्मत तोड़ देती है, परिस्थिति ही उसमे जूनून पैदा कर देती है और परिस्थिति ही उसे बेईमान और अपराधी बना देती है |  वहीँ कुछ लोग होते हैं जो विपरीत  परिस्थितियों  का  मुकाबला करते हैं और दुनिया को बता देते हैं की विपरीत परिस्थितियों में भी यदि कोई चाहे तो अपनी किस्मत पलट सकता है |

https://images.app.goo.gl/nEDDnyzNSGBLzXMZ8

 दुनिया में कई ऐसे लोग हैं जिनका बचपन अभावों में बीता है और उन्होंने परिस्थितियों से लड़कर मुकाम हांसिल  किया है |  कई ऐसे लोग हैं जिन्होंने गंभीर बीमारियां होते हुए भी परिस्थिति को बदल कर बीमारी से मुक्ति पाई है  | कई लोगों ने शारीरक विकलांगता होते हुए  भी परिस्थिति को अपनी मजबूरी नहीं बनने दिया |  सच तो यह है की हम परिस्थितियों को समझ कर उनसे लड़ने के बजाय उनकी गुलामी स्वीकार करने को आसान मानते हैं |
https://images.app.goo.gl/p9V2VJceeRA4GuNb7
जहाँ आवश्यक हो परिस्थिति के अनुसार हमे अपनी सोच बदलना चाहिए  लेकिन मरते दम तक परिस्थिति से मुकाबला अवश्य करना चाहिए | वहीं  कुछ लोग परिस्थिति का अपने पक्ष में होने का इंतजार करते है | जीवन में हर ख़ुशी आपको नहीं मिल सकती, हर जगह हर सुविधा नहीं मिल सकती ,हर काम आपके अनुसार नहीं हो सकता|  किसी न किसी का अभाव हमेशा बना ही रहेगा  कभी जीवन में आर्थिक समस्या रहेगी तो कभी शारीरिक पीड़ा आपको सताएगी कभी पारिवारिक  समस्या आपके सामने होगी |   इनका सामना करना ही समाधान है|
https://images.app.goo.gl/R16YaGkqKH5gc9eEA

  हर चीज के सामान्य होने के इंतजार में लोग अपने आप को दुखी करते रहते है और सारा जीवन दुखों  में गुजार  देते है |  वो ये नहीं समझ पाते है की जीवन सुख दुःख दोनों के साथ निरंतर चलता रहता है |  जीवन रुकता नहीं है समय रुकता  नहीं है  यह एक सतत प्रक्रिया है |   परिस्थिति, समस्या ,,सुख दुःख आने पर वक्त कभी नहीं रुकता है उसी प्रकार   जो समय के साथ लगातार चलता जायेगा उसका  दुःख का  समय भी आसानी से गुजर जायेगा बाकि तो दुःखों  का वजन अपने ऊपर रखकर ही दुनिया से विदा होंगे  |  आप  किस तरह का  जीवन जीना   चाहते है ? कमेंट करके अवश्य बताये |

  लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें |     

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.