कैसे होंगे वो दिन जब एक पैसे से भी बाजार की सैर की जाती होगी

August 29, 2019

कैसे होंगे वो दिन जब एक पैसे से भी बाजार की सैर की जाती होगी 


आज हम लाये है आपके लिए कुछ पुरानी  यादें  ये यादे लाये है हम पुरानी  भारतीय मुद्रा के रूप में 
आप में से कुछ के पास हो सकता है पुराने सिक्के रखे हो परन्तु फिर भी आज की युवा पीढ़ी और बच्चों  को पुरानी  भारतीय मुद्रा की जानकारी नहीं होगी | परन्तु सोचिये कैसे होंगे वो दिन जब लोग एक पैसा जेब में रख कर  भी बाजार की सैर कर के खरीददारी करते होंगे | 


https://images.app.goo.gl/uc414DsXEHYFV26C6

ये पुराने सिक्के देख  कर कुछ लोग अपने बचपन को जरूर याद  कर रहे होंगे जब दस पैसे लेकर भी बच्चे बाजार जाते थे और दस पैसे में गोली बिस्कुट जैसी चीज़  खरीद लाते  थे |




https://images.app.goo.gl/A5ytfGxtjUBJLZrH6


रूपये का पचासवाँ  भाग 1944  में इस तरह का दिखाई देता था
https://images.app.goo.gl/zEKGVQBuL9pZrwuN8

यही दो पैसे का सिक्का 1962  में नए रूप और आकर में  इस तरह का  दिखाई दिया


https://images.app.goo.gl/axMdeq4Fdhv9CXGA7

पाँच पैसे के सिक्के का भी उस जमाने में अपना महत्व था



https://images.app.goo.gl/qngvVz8AHZ7Bu9V88
20  ऐसे का यह सिक्का 1971 के युद्द की याद दिलाता है



https://images.app.goo.gl/QVqi1vzkPxwKqxCY7



 एक, दो ,तीन, पाँच , दस, बीस  पैसो के सिक्कों  ने समय समय पर  अपने आकर रूप को परिवर्तित किया है
ये वो दौर  था जब एक पैसे का सिक्का भी चलन में था और एक पैसे से भी रोते  हुए बच्चे को चुप करा दिया जाता था आज एक रुपया भी रोते  हुए बच्चे का रोना बंद नहीं करवा सकता |


https://images.app.goo.gl/XtGQERDuFUqZS9Qe7



पच्चीस पैसे के सिक्के को चवन्नी तथा पचास पैसे को अठन्नी  कहा जाता था |

लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 



No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.