ये है जीवन में शांति बनाये रखने के औजार इनका प्रयोग किस्मत बदल देगा

August 03, 2019
क्या है  हथियार और औजार का फर्क


जीवन जीने के लिए हमे हथियार और औजार का अर्थ समझना जरूरी है हथियार अशांति का प्रतीक हैजबकि औजार शांति का    हथियारों से कभी भी किसी का भला नहीं हो सकता जबकि  औजार किसी भी कार्य को आसान बनाने में मददगार होते हैं जीवन जीने के लिए हमे हथियारों का नहीं औजारों का प्रयोग करना   चाहिए ताकि हमारा जीवन आसान बन सके | औजारों के प्रयोग से आविष्कार का जन्म होता है |

https://images.app.goo.gl/NsMxdRLRPvJencVCA



 ये हैं हमारे जीवन जीने के हथियार 

 क्रोध , गुस्सा ,  अहंकार ,  दुःख हिंसा , नकारात्मकता , द्वेषता समय का कुप्रबंधन हमारे जीवन के प्रमुख हथियार हैं जो व्यक्ति इनका प्रयोग करके जीवन जीना चाहते हैं वो  न खुद सुखी रह सकते  हैं न दूसरों  को रहने दे सकते हैं जीवन जीने के लिए  हमे हथियारों का नहीं बल्कि औजारों  का प्रयोग करना चहिये


https://images.app.goo.gl/MMbvSWJ2hYqHGt6h7

   ये हैं  हमारे जीवन के मुख्य औजार हैं

https://images.app.goo.gl/y1niHkpvgxweh1DVA

 विनम्रता ,  धैर्य , सहनशीलता , सकारत्मकता , लगन , मेहनत  समय का प्रबंधन इमानदारी प्रेम हमारे जीवन के मुख्य औजार हैं इनका उपयोग कर हम हमारे जीवन को सरल और आसान बना सकते हैं |यदि आपको औजारों का प्रयोग करना नहीं भी आता है तो घबराने की कोई बात नहीं है इन्हे सीखना भी बहुत ही आसान है बस इसके लिए आपको खुशमिजाज होना पड़ेगा क्योकि एक खुशमिजाज व्यक्ति इन औजारों का उपयोग बखूबी कर सकता है |



जीवन को   हथियारों से नहीं औजारों से जी कर देखो कभी न कभी सफलता आपके कदम जरूर  चूमेगी जीवन में खुशियों का संचार होगा सुख शांति मिलेगी रिश्ते मजबूत होंगे किस्मत बदल जाएगी  जन्नत का आनंद मिलेगा |
https://images.app.goo.gl/GCDr1dqQctWcsQwT8


लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.