काम बनने के बाद हम भगवान तक को भूल जाते हैं तो इंसान क्या चीज है

August 01, 2019
जब हम भगवान की शरण में जाते हैं  तो पूर्ण रूप से भगवान के भक्त बन जाते हैं  |  पूजा प्रतिष्ठा  करते हैं भगवान को खुश करने के लिए हम अच्छी से अच्छी अगरबत्ती का प्रयोग करते है |  अच्छे  से अच्छा भोग लागतै हैं |  पूरे विधि विधान से हम पूजा पाठ करते हैं  |  और भगवान् से  खुशहाल जीवन की प्रार्थना करते है |  भगवान हमारी प्रार्थना स्वीकार करते है  |  और हमारे काम भी बन  जाते हैं |
https://images.app.goo.gl/h8naKwQjB5pUAZjh7

 सांसारिक मोह माया में हम हमारे काम बनने के बाद हम  भगवान तक को भूल  जाते हैं तो इंसान क्या चीज है  | ठीक उसी प्रकार   हम उन लोगों को भी याद नहीं रख  पाते हैं जो हमारा हित  सोचते हैं, भला सोचते हैं, हमारे काम आते हैं |  उनके साथ भी हम झूठ सच करना नहीं छोड़ते |  उनके सुख दुःख को समझने की कोशिश नहीं करते |  लड़ने झगड़ने में सारा जीवन व्यर्थ कर देते  हैं |  मन मुटाव को दूर कर जीवन को सरल बनाने की बजाय जीवन  को कठिन बना लेते हैं |  दिलों पर वजन रखकर पूरे शरीर को भारी कर लेते हैं |  बात- बात में पैरों में बेड़ियाँ बांध लेते हैं |  जिससे कदम खुद बढ़ने से इंकार कर देते  हैं  | और दिलों में दूरियां बढ़ा लेते है
https://images.app.goo.gl/i3WYQnqX3scXGaTT8

 हमारे घरों को साफ़ सुथरा  रखना चाहते हैं लेकिन हमारी आँखों के आगे छाए जालों को नहीं हटाते हैं |  खुली हवा के लिए घर में खिड़की दरवाजे बनाते हैं लेकिन हमारे मन के खिडकी  दरवाजों को बंद रखते हैं |   यही वजह है की  हम इंसान के रूप में खड़े भगवान को भी नहीं पहचान पाते हैं | नहीं समझ पते है की जब हम मुसीबत में थे तब जिसने भी हमारा साथ दिया, हमे हिम्मत दी, हमारा सहारा बने  वो भगवान का ही रूप था |  जो लोग इस बात को समझ लेते है वो एक दूसरे का साथ देते हुए जीवन हंसी ख़ुशी  और प्रसन्नता से गुजारते  है |  मुसीबत आने पर उनका  मुसीबत का वक्त आसानी से कट  जाता है  |
https://images.app.goo.gl/bJhAxU6XH2VLJ3hK8

  परन्तु जो लोग यह बात नहीं समझ पाते है  वो अहंकार को स्वाभिमान मान कर जीवन भर अहम  और वहम  पाल कर रखते है |  मुसीबत आने पर कभी किस्मत, कभी रिश्तो तो कभी भगवान को दोष देते है |  ऐसे लोगो का पूजा प्रतिष्ठा करना मुँह में राम बगल में छुरी वाली कहावत सिद्द करता है | जो हमारे रिश्तो में खटास  का कारण बनता  है | यदि रिश्तो में मिठास  चाहते  है तो पूजा पाठ अवश्य करें परन्तु मुँह में राम बगल में छुरी रखकर नहीं  |
 
लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 



   

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.