अपराध से पारिवारिक और सामाजिक रिश्ते प्रभावित होते है

July 14, 2019

अपराध का अर्थ है गैर कानूनी कार्य करना| किसी भी देश के कानून को तोड़कर संविधान की अवहेलना कर किया गया कार्य अपराध की श्रेणी में आता है|
अपराध की श्रेणी में आता है अधिकतर अपराध पैसों के लालच में होते हैं| कई लोग अपराध  करके पैसा कमा लेते हैं लेकिन वह यह बात नहीं समझ
पाते हैं कि जीवन में सुकून का एकमात्र आधार पैसा ही नहीं बल्कि सुख शांति और इज्जत की जिंदगी होती है| और फिर
पैसा बिना लालच के बिना अपराध के भी कमाया जा सकता है| ईमानदारी और मेहनत से कमाया गया पैसा ही सुकून औ
र सुख शांति की जिंदगी दे सकता है |
https://images.app.goo.gl/NXfFTXBCW4WHaLrM6


बड़े से बड़े अपराधी को भी अपने अंतिम दिनों में उस वक़्त पछताना पड़ता है जब
उसका शरीर उस का साथ नहीं देता | जब पारिवारिक और सामाजिक रिश्ते प्रभावित होते है जब अपराधी अपराध करता है तो उसके परिणाम सिर्फ उसे ही नहीं भुगतने पड़ते ब
ल्कि उसके परिवार को सामाजिक, मानसिक ,आर्थिक परेशानियां उठा कर भुगतना पड़ता है | एक व्यक्ति की अपराधिक
प्रवृति से पूरा परिवार बर्बाद हो जाता है| उसका सामाजिक और सांस्कृतिक जीवन प्रभावित होता है| रिलेशन
https://images.app.goo.gl/jX8XfafmkEUSmCaw5



यह भी सच है कि कुछ लोग मजबूरी वश अपराध की दुनिया में कदम रखते हैं और एक बार इस दलदल में फंसने के बाद प्रायश्चित करना
भी चाहें तो अपराध की दुनिया से निकलना बहुत मुश्किल हो जाता है| अपराध जगत के अन्य अपराधी भी उसके दुश्मन
बन जाते हैं | अपराधी अपने लालच के लिए न जाने कितने निर्दोष लोगों को अपने अत्याचार का शिकार बना देते हैं|
https://images.app.goo.gl/iUWWP3eXUJF2sc179



इसलिए अपने परिवार पास- पड़ोस में छोटे-मोटे अपराध करने वालों कोअपराध करने से रोके ताकि वे अपराध के
दलदल मैं फ़ँसने से बच सकें उन्हें रचनात्मक कार्यों के लिए प्रेरित करें हमारे आस- पास कोई अपराध घटित नहीं हो
उसके लिए हमें हमारे प्रयास जारी रखना चाहिए| अपराध रोकने के साथ-साथ लोगों को अपराधी होने से रोकना
भी एक नेक काम है | अपराधी को सजा दिला कर हम अपराध की पुनरावृत्ति को नहीं रोक सकते लेकिन किसी को
अपराधी बनने से रोक कर हम अपराध को रोक सकते हैं |




No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.