राष्ट्रीय ध्वज के चक्र की चौबीस तीलियों में छिपा है जीवन जीने का गहरा संदेश

July 22, 2019
हमारे राष्ट्रिय ध्वज का चक्र हमे लगातर चलते रहने  का संकेत देता है |   यह चक्र 24 हिस्सों में बँटा  हुआ होता है  |   चौबीस तीलियों में गहरा संदेश छिपा है जो हमारे दिन भर के 24 घंटों के कार्यों  को प्रदर्शित करता है |  जिस प्रकार दिन भर में 24 घंटे होते हैं चक्र के 24 भाग हमे अपने  दिन भर के कार्यों को 24 आसान हिस्सों में बांटकर लगातार करते रहने का संकेत  देते हैं |  राष्ट्रीय ध्वज के चक्र  की चौबीस तीलियों में छिपा है जीवन जीने का  गहरा संदेश  |
https://images.app.goo.gl/2QTqhCm4ydr7coxTA

| यदि हम राष्ट्रिय ध्वज के चक्र से प्रेरणा लेकर हमारे जीवन को सिर्फ 24 घंटे में हस्ते मुस्कुराते जीना सीख लें तो हम कभी लम्बे जीवन की  कल्पना ही नहीं करेंगे|  क्योंकि जीवन तो हमारा सिर्फ दिन भर के  24   घंटों पर ही निर्भर करता है |
https://images.app.goo.gl/AWhTvPC6Ndwzjxvc7


  जिसने इन 24 घंटों का सही प्रबंधन कर इनका सदुपयोग कर लिया वह  स्वतः ही लम्बे जीवन का एहसास कर लेगा |  क्योंकि  सुबह उठकर रात को सोने तक ही जीवन है अगले दिन क्या हो जाए किसको पता |  इन 24 घंटो में हमे नित्य कर्म करने है, रिश्ते नाते निभाने हैं, सच झूठ, अच्छा बुरा, हंसना  रोना, खाना  पीना, आना जाना ,आजीविका कमाना, मनोरंजन करना, एक दूसरे के सुख दुःख में शामिल होना, हमारे स्वास्थ्य का ख्याल रखना जैसे सभी काम करने हैं |
https://images.app.goo.gl/su2RD2fsKhYJUK9s5


  जिसने इन कर्मों   को राष्ट्रिय ध्वज के चक्रों की तरह 24 हिस्सों में बांटकर लगातार कर लिया वह अपना दिन भर हसी ख़ुशी से गुजार लेगा    इसी तरह हर रोज 24 घंटे का जीवन हंसी खुशी  गुजरना ही हमारा जीवन है | बाकि लम्बी उम्र की कामना तो सिर्फ हमारी कल्पना है, लालसा है इच्छा है   इसलिए चौबीस घंटो को ही इस तरह जी लो की आगे जीवन जीने की जरूरत ही महसूस नहीं हो 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.