ईमानदारी सबसे अच्छी नीति है

June 23, 2019
"Honesty is the best policy"    ईमानदारी सबसे अच्छी नीति है |  आज के युग में यह क़ोटेशन मात्र एक जुमला बनकर रह गया है ईमानदार होना , ईमानदारी की बात करना, ईमानदारी सीखना, ईमानदारी सिखाना  ,बहुत बड़ी मुसीबत लेना हो गया है |  ईमानदारी दूध घी की  नदियों की तरह   लुप्त हो गयी है ऐसा प्रतीत होने लगा है | वास्तव में हमारी धारणा  और सोच गलत बन   गयी है ईमानदार होकर मुसीबतें मोल लेना  कोई नहीं चाहता बेईमानी चालाकी लालच के दम पर किये गए काम हमे आसान सरल और बिन मुसीबत के लगते ज़रूर हैं लेकिन होते नहीं है |
https://images.app.goo.gl/o4kpdmp1FSBYXqbRA

  यह बात हमारे मन का वहम  है  |   हम किसी  बेईमान लालची और चालक व्यक्ति से प्रभावित होकर कुछ समय के लिए अवश्य ऐसा महसूस कर सकते हैं |  परन्तु बेईमान और लालची व्यक्तियों से यदि दिल खोलकर पूछा जाये तो उनकी  अंतरात्मा यही गवाही  देगी की बेईमानी और लालच की चकाचोंध में सम्पन्नता और सुख सुविधाओं   से भरी ज़िंदगी भी काँटों भरा ताज है |  जिसमे सब कुछ होते हुए भी सुकून नहीं  है |  पैसा है  परन्तु अपने लिए नहीं |  अपने ही जैसे दूसरे बेईमानो लालचियों और चालक लोगों को बाटने के  लिए ,काम धंधे  बेईमानो लालचियों और चालक लोगों के   फायदे के लिए, रोजगार होगा लेकिन ऐसे ही लोगों के लिए जो खुद बेईमान लालची और चालाक होंगे, रिश्ते भी ऐसे ही लोगों  से होंगे |  यानि हर  जगह बेईमानी लालच और चालाकी होगी |
https://images.app.goo.gl/yh6CCzbaSPQnpM2C6

सोचकर देखे क्या ऐसे में कोई आपके साथ  बेईमानी चालाकी नहीं कर रहा होगा? कोई लालची निगाहें आपको नहीं घूर रही होंगी? क्या आपको बेईमान चालक और लालचियों से सावधान और सतर्क  होने की आवश्यकता नहीं होगी ? क्या ऐसे लोगों के बीच आपका जीवन दाव पर नहीं  लगा होगा? क्या आपका समय व्यर्थ के प्रपंचों तनाव भाग दौड़ में नहीं  गुजर जायेगा? क्या जिस सुख  सुकून के लिए आप धन दौलत कमा रहे है  उसका कोई उपयोग आप स्वयं के लिए कर पाएंगे  ?इसलिए अपनी धारणा को बदलिए ईमानदारी की नीति को अपनाइये ईमानदार बनिए ईमानदार लोगों केसाथ  रहिए ईमनदारी सीखिए और ईमानदारी सिखाइये अपने  और औरों के जीवन को तनाव मुक्त बनाइये |
https://images.app.goo.gl/n6CA5EAWQt71cX9Q9

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.