फटे कपडे पहनना फैशन के अलावा सामाजिक सोच को दर्शाता है

June 18, 2019
                 फटे कपडे पहनना फैशन के अलावा सामाजिक सोच की झलक दिखता है



कपडे हमेशा फैशन का माध्यम रहे हैं  | कपड़ों से व्यक्ति  का व्यक्तित्व तो झलकता ही है |  साथ ही कपडे व्यक्ति की   सुंदरता   भी बढ़ाते हैं |  इसलिये कपड़ों के  चयन में सावधानी बरती जाती है |  आज कल फटी जींस का फैशन  और कपड़ों में पेबंद लगाने का चलन जोरो पर है  | यह फैशन का नया ट्रेंड बन कर उभरा है |  लेकिन जिसने भी इस ट्रेंड को फैशन का रूप दिया है हमे उसे धन्यवाद् देना चाहिए  | क्योंकि इससे उस व्यक्ति की सामाजिक सोच झलकती है |

https://images.app.goo.gl/HhTTSmtDD7ebqHgw7
  फटे कपडे अक्सर गरीबी का परिचायक होते हैं |  पुराने समय में फटे कपडे पहनने पर लोग उपहास और मजाक का शिकार हो  जाया करते थे  | लेकिन  आज के ज़माने में अच्छे अच्छे लोग इसे फैशन के  नाम पर स्वीकार कर चुके हैं  | न जाने कितने पेबंद कपड़ों में देखे जा सकते  हैं |  लेकिन गरीब लोग पेबंद लगाने को अच्छा नहीं समझ  रहे हैं क्योंकि यदि वे फ़टे कपड़े फैशन के नाम पर पहन भी ले तो समाज को  उनके फैशन में  भी गरीबी की झलक दिखेगी |
https://images.app.goo.gl/dTEgSX7H2YtyC7oZ6
  लेकिन किसी को भी इसमें शर्मिंदा होने की जरूरत नहीं है  फैशन का यह ट्रेंड समाजिक सोच को विकसित करता है वह यह की कपडे चाहे फटे हुए हो लेकिन  पहनने लायक बनाया जा सकता है |  दूसरा फटे कपड़ों में लगे  पेबंद में कोई बुराई नहीं है बुराई तो   गंदे मैले बिना धुले कपडे पहनने में है इस फैशन से ये सीख अवश्य  लें  की कपडे  चाहे फटे हुए हो उन्हें सिल कर दुबारा सुधार कर पहना जा सकता है |
https://images.app.goo.gl/e3XRbn51cqzfF3R69
 गरीबो के लिए यह फैशन नई सोच लेकर आया है |  लेकिन कुछ लोगो के अजीबो गरीब पहनावे  ने इसे मजाक बना कर रख दिया है | अच्छा हो की इस फैशन को हम मजाक नहीं बनने दे ताकि इस फैशन का आनंद गरीब लोग भी उठा सके उन्हें फटे कपड़ो  में पेबंद लगाने में  शर्मिंदगी महसूस न हो 

|लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like , share,follow करें | 


No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.