रास्ते की तरह होता है जीवन रास्ते की गणित से समझें ज़िन्दगी का गणित

June 12, 2019
     
         रास्ते की तरह होता है जीवन रास्ते की गणित से समझें ज़िन्दगी का गणित



जीवन रास्ते की तरह होता है जिस तरह रास्तों में कई मोड़ आते हैं कई दुर्घटनाऐ  होती है, दो राहे आते हैं तिराहे चौराहे आते हैं उसी तरह हर मनुष्य का जीवन भी कई मोड़ों दुर्घटनाओं दो राहों तिराहों चौराहों से होकर गुजरता है। रास्तों पर जब मोड़ आता है तो मुड़ना पड़ता है मुड़ने के लिए दाएँ बाएँ  आगे - पीछे देखना पड़ता है उसी तरह जब हमारे जीवन में मोड़ आए और मुड़ना पड़े तो   दाएँ बाएँ आगे - पीछे यहां तक की ऊपर नीचे भी देखना पड़ता है |


                         जीवन जीने के लिए ज़रूरी है ज़िन्दगी की वर्णमाला का अभ्यास     ←   click to read


https://goo.gl/images/1FJqjj

जिस प्रकार रास्ते पर बिना देखे मुड़ने पर दुर्घटना होने का भय रहता है उसी तरह यदि हम जीवन में आगे पीछे का सोचकर निर्णय नही लेंगे तो घटना या दुर्घटना होने का डर रहता है | जहाँ ट्राफिक कम होता है, वहाँ हम बिना यातायात के नियमों का पालन किये सड़क पार कर लेते हैं, लेकिन जहाँ ट्रेफिक अधिक होता है, वहाँ हमें यातायात के नियमों का पालन अवश्य करना चाहिये। उसी प्रकार जीवन में भी जहाँ आवश्यक हो हमें सिद्धांतों और नियमों का पालन अवश्य करना चाहिये।
https://goo.gl/images/agMAo8
अनजान रास्तों पर हम कई बार दोराहे, तिराहों, चौराहों पर आकर रुक जाते हैं। यदि हमें आगे के रास्ते के बारे में जानकारी नही होती है तो हम जानकारी हांसिल कर आगे बढ़ते हैं और मंजि़ल तक पहुँच जाते हैं। यह जीवन भी हमें कई बार दो राहों तिराहों चौराहों पर लाकर खड़ा कर देता है जहाँ हमें आगे का रास्ता नही सूझ पाता हम दूसरों से सलाह लेते हैं कई बार हमें सही सलाह मिल जाती है और हम अपनी मंजि़ल तक पहुँच जाते हैं ।
https://goo.gl/images/8iYT3B

 जिस प्रकार कई बार हमारे पास एड्रेस की सही जानकारी नही होने पर हम सही एड्रेस पर पहुँचने के लिए इधर - उधर भटकते रहते है उसी प्रकार जीवन में भी सही लक्ष्य पर पहुँचने के लिए हमें भटकना पड़ता है। रास्ते पर हम जब नजर दौड़ाते हैं तो हमें रास्ते का कोई छोर (अन्त) नज़र नही आता उसी प्रकार जिन्दगी का रास्ता भी हमें कई बार लम्बा नज़र आता है जब हम रास्ते पर आगे कदम ही नही बढ़ाएगे तो रास्ता कम नही होगा उसी प्रकार जीवन में हम लक्ष्य की तरफ नही बढ़ेंगे तो हमें लक्ष्य दूर नज़र आएगा | 

                            क्या जीवन को हम शह और मात का खेल बना रहें हैं ?       ←   click to read



https://goo.gl/images/f5vUuX
जिस तरह रास्ते में हमें धोखेबाज और मददगार मिलते हैं उसी तरह ज़िन्दगी में भी हमें धोखेबाज और मददगार लोग मिलते हैं। रास्ते में चलते वक्त यदि हमें अहसास होता है कि हम गलत रास्ते पर जा रहें हैं तो हम रास्ते बदल देते हैं। जीवन में भी जब हमें लगे कि हम कोई गलती कर रहे हैं या गलत कार्य कर रहे हैं तो हमें गलती स्वीकार कर उसमें सुधार करना चाहिये। यदि हम रास्ते की गणित को समझ लेंगे तो हमारे जीवन की गणित को समझने में हमें कोई परेशानी नही होगी। और हमारा जीवन सफल हो जाएगा।  यह लेख आपको कैसा लगा अपने अमूल्य सुझाव हमे अवश्य दे आर्टिकल यदि पसंद आया हो तो like, shareकरें |

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.