क्या तीन टांग की दौड़ के खेल से सीखा जा सकता है जीवन के रिश्तो में तालमेल बनाना

June 09, 2019
                                      
                                                             तीन टांग  की दौड़ 


  हमारी ज़िंदगी तीन टांग  की दौड़ की तरह है |  बचपन में यदि आपने तीन टांग की दौड़ दौड़ी हो तो आपको याद होगा की इस में दो पार्टनर अपनी एक एक टांग एक    दूसरे के साथ बांधकर फिर दौड़ लगते हैं |  जो इतना आसान  नहीं होता है |  दोनों की एक एक टांग खुली होती है और एक एक टांग एक दूसरे के साथ बंधी होती है | जो बंधी हुई टांग होती है उसका बैलेंस बनाना बड़ा मुश्किल होता है क्योंकि खुली हुई टांग तो आपकी इच्छा पर चलती है लेकिन बंधी हुई टांग सिर्फ आपकी इच्छा पर नहीं बल्कि दोनों की   इच्छा पर ही  चलती है यदि आप दोनों पार्टनर बराबर तालमेल बिठाकर बंधी हुई  टांगो  को चलाने का प्रयत्न करेंगे तो आप बड़ी आसानी से तीन टांग  की दौड़ दौड़ पाएंगे   |   जो लोग इस बात का ध्यान नहीं रखेंगे वे थोड़ी ही दूर चलने के बाद उलझ कर गिर जाएंगे | 

https://images.app.goo.gl/5NzCMd9yXk9BMMrSA

 हमारा जीवन भी तीन टांग की दौड़ की तरह  है |   यह किसी न किसी रिश्ते  से जुडा  हुआ हैजहाँ तीसरी टांग सही काम कर रही है संभल कर चल रही है तालमेल बैठाकर चल रही है वहां रिश्ते दौड़ते नज़र आते हैं जहाँ तालमेल बिगड़ जाता है वहां रिश्ते उलझ कर गिरते ही नहीं है बल्कि टूट जाते हैं इसलिए ज़िंदगी को सही तरीके से चलाने के लिए तीन टांग की  दौड़ का खेल खेलना और सीखना बहुत आवश्यक है |  यह खेल  खेलकर जिस व्यक्ति ने अपनी टांगो का तालमेल बनाकर इस दौड़ को जीत लिया वह ज़िंदगी की  दौड़ को भी बड़ी आसानी से जीत सकता है |
https://images.app.goo.gl/r8bC9V19qnKt5hM97

 तीन टांग  की दौड़ जहां खेल की दृष्टि से महत्वपूर्ण है वहीं जीवन में किसी भी रिश्ते में तालमेल बनाना सिखने  के लिए इस दौड़ को दौड़ कर देखना बहुत ही जरूरी है |  |   इस दौड़ को यदि आपने आज तक नहीं दौड़ा  है तो एक बार अवश्य दौड़ कर देखे |  मनोरंजन के साथ- साथ  इस दौड़ को दौड़ने के बाद आप यह जरूर महसूस करेंगे की वास्तव में लोग  क्यों  रिश्तो में तालमेल नहीं  बना पाते है ? यदि तीन टांग  की दौड़ दौड़ने के बाद आपको आनंद मिला हो और रिश्तो से इस दौड़ का संबंध महसूस हुआ हो तो हमे कमेंट कर  अपने विचार अवश्य बताये |  हमारा यह आर्टिकल आपको कैसा लगा इसमें  कोई कमी लगी हो तो अपने सुझाव अवश्य दे अच्छा लगा हो तो like share भी करें 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.