जीवन में शतरंजी चालों की वजह से हम सुख शांति खो चुकें हैं

May 07, 2019
आज हर व्यक्ति अपनी जीत चाहता है मात यानि हार कोई नहीं चाहता यह सही है कि खेलों में अपनी जीत के लिए दूसरों को हराना आवश्यक होता है लेकिन उसके भी कुछ नीति नियम होतें हैं |

https://goo.gl/images/s8QWyw
आज हम जीवन में भी खेलों की तरह ही अपनी जीत के लिए दूसरों को हराना आवश्यक समझने लगें हैं जबकि जीवन में हमे अपनी जीत को जीतने के लिए दूसरों को हराना बिलकुल आवश्यक नहीं है जीवन को हम शह और मात का खेल बना रहें हैं | 

https://goo.gl/images/pJHdcd
आज लोग जीवन की प्लानिंग इस तरह से कर रहें हैं की अपनी शह के साथ हम दूसरों को किस प्रकार मात दे और यही वजह है की हम दूसरों को मात देने के लिए तनावपूर्ण जीवन जी रहें हैं दुखी जीवन जीने पर मजबूर हैं यदि हम दूसरों को मात देने की जगह हमारी जीत की प्लानिंग करें तो शायद हमे न तो तनाव लेने की आवश्यकता होगी न दुखी होने की |

https://goo.gl/images/5PJwJm


जीवन को हमने खेल का मैदान बना दिया है राजनीती का अखाडा बना दिया है | शतरंजी चालों की वजह से हम सुख शांति खो चुकें हैं | हर बात में हम अपने आप को जीताना चाहतें हैं और दूसरों को हराना चाहतें है | हर कोई जीतने की उम्मीद में मात खाता जा रहा है बिना सुख शांति के तनावग्रस्त होकर जीवन जीना ही हमारी सबसे बड़ी मात है |

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.