सोच को बड़ी रखने के लिए घर की पाठशाला में अध्ययन निहायत आवश्यक है |

April 22, 2019

                                           

 पहली पाठशाला घर होती है |  इस पाठशाला की जरूरत बच्चों  से लेकर बड़ों  तक को जीवन भर होती है |   यह दुनिया की ऐसी पाठशाला है जिसमें बार- बार फैल होकर भी सबसे ज्यादा अनुभव कमाया जाता है |  इस लिए घर की पाठशाला में पढना और पढ़ाना दोनों जरूरी है | इसके सबसे अच्छे अध्यापक वो  सभी परिवार के सदस्य होते  है जो एक दूसरे को समझते है, एक दूसरे का मान सम्मान करते है, एक दूसरे के सुख दुःख में शामिल होते है ,सामाजिक सोच रखते है | अपनी और दूसरो की सोच को बदलने की क्षमता रखते है  |  बिना स्वार्थ के इंसानियत दिखाते है  |
https://images.app.goo.gl/mv6SfXJyGVg3PreP8

  घर की पाठशाला में पढाये गए पाठ विद्यालयों में पढाये जाने वाले पाठो को और भी मजबूती प्रदान करते है | जिस तरह मकान की नींव  मकान को मजबूती प्रदान करती है उसी प्रकार घर की पाठशाला एक विद्यार्थी  जीवन  की नींव होती है लेकिन आज जिस तरह से हम बच्चों  की  शिक्षा के लिए जागरूक हुए है वह जागरूकता नहीं बल्कि उतावलापन है | इस उतावलेपन  में अधिकतर लोग यह भूल रहे है की बच्चो के लिए क्या सही है क्या गलत है ?
https://images.app.goo.gl/McDe2eYQcyVZQbeN6

  शिक्षा दिलाने की इस  अंधी दौड़ में जो बचपन घर की पाठशाला में बितना  चाहिये  उसे स्कूली बसों और स्कूली भवनों में बिताने पर मजबूर कर रहे है |  जो बचपन मिट्टी  की सुगंध में बिताना चाहिए उसे चमचमाती टाइलों की कठोरता में बितवाना  चाहते है  |  जो बचपन माता की गोदी में चुलबुले पन में बितना  चाहिये वो स्कूली किताबों में बीत  रहा है |
https://images.app.goo.gl/h8c8RD4diZSzvBJj9

  क्या यह कटु सत्य नहीं है कि छोटे - छोटे बच्चो को  बिना नित्य कर्म किये बिना नींद पूरी किये माता- पिता उन्हें स्कूलों में पिंजरे के पंछियो की तरह कैद कर के आ जाते है ? क्या यह कटु सत्य नहीं है की अधिकतर माता- पिता इसे अपनी  सामाजिक प्रतिष्ठा का सूचक मान रहे है ?  क्या यह सच नहीं है की बड़े स्कूलों में बच्चो को पढाना स्टेटस सिंबल बन गया है  ?  क्या यह सच नहीं है की हम बच्चों  से उनकी क्षमता को पहचाने बिना उनसे जरूरत से ज्यादा अपेक्षाएं और उम्मीदे पाले हुए है ?  क्या यह सच नहीं है की पड़ौसी  के बच्चे के साथ बच्चे के खेलने में लोग कतराने लगे है  ?  क्या यह  सच   नहीं है की हर माता पिता अपने बच्चो के भविष्य को लेकर जरूरत से ज्यादा तनाव झेल रहे है ?
https://images.app.goo.gl/xC863S3H4weFCxF29

 वह  सिर्फ इस लिए की की हम बच्चो की क्षमता पहचाने बिना दूसरो के बच्चे  से उसकी तुलना कर रहे है |वह  सिर्फ इस लिए की हम अपनी सोच को नहीं बदलना चाहते है |   दूसरा आज हम बच्चे की कामयाबी सिर्फ उसके स्कूली मार्क्स को समझ रहे है |  जो एक भेड  चाल बन चुकी है|   सिर्फ स्कूली मार्क्स किसी भी बच्चे की प्रतिभा का सही आकलन नहीं है |  दुनिया में आज भी कई  उदाहरण ऐसे मिल  जाएंगे जिन्हे पढ़ाई में अव्वल आने पर भी जीवन में बड़ी कामयाबी नहीं मिली |  कई लोग ऐसे मिल जाएंगे जो साधारण पढ़ाई  लिखाई  के बावजूद भी बड़ी सफलता हासिल करने में कामयाब रहे  | बड़ी कामयाबी के लिए किताबी ज्ञान के साथ साथ सोच को भी बड़ी रखना जरूरी है | सोच को बदलना जरूरी है  और सोच को बड़ी रखने के लिए घर की पाठशाला में अध्ययन  निहायत आवश्यक है  |  

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.