अधिकतर समस्याएं पैसा होने और न होने की वजह से पैदा होती है

April 06, 2019
 दुनिया में आज पैसा इस कदर हावी हो चुका है की किसी भी बात का सही और गलत होने का अंदाजा  लगाना मुश्किल   हो गया है |  पैसों की वजह से कब  कोई ईमानदार व्यक्ति  बेईमान साबित हो जाये पता नहीं  |  कब कोई  बेईमान अपने आप को    ईमानदार साबित  कर दे कहा नहीं जा सकता |  इसी असमंजस की वजह से हर कोई  पैसा बटोर लेना चाहता है |  हर कोई गलत फहमी में है की कब मुसीबत आ पड़े और हम उस मुसीबत  का हल  पैसों से निकाले  | लोंग  इल
https://images.app.goo.gl/pMQi9YXPxVCKxr1g7

 यही हमारी गलत धारणा बन गयी है हम हर मुसीबत के हल पैसे से निकालना चाहते हैं |  हमारे इसी स्वार्थ और लालच  की वजह से   नियमों कानूनों को ताक पर  रखकर भी पैसा कमाने  का जुगाड़ ढूंढते हैं |  किसी को भी  धोखे में   रखकर नुकसान पहुंचाकर भी पैसा कमाने के लिए तैयार हो जाते हैं |  पैसे के  लेन देन में हम मरने मारने पर उतारू  हो जाते हैं |  पैसा कमाने की इसी चाह में  घर की सुख शांति को दाँव  पर लगा देते हैं |
https://images.app.goo.gl/z6Kk5SGmD6TDFjkJ9

पैसे की चाह हर व्यक्ति रखता है लेकिन कितने लोग हैं जो  पैसों से खुशहाल ज़िंदगी जी  पाते हैं सारा जीवन भागते दौड़ते कमाते हैं और हर पल अपने आप को उसी पैसे की वजह से मुसीबत में घिरा पाते हैं |  इसलिए पैसा कमाए अवश्य परन्तु उसका सदुपयोग भी करना सीखे |  पैसों की वजह से अनावश्यक दुश्मनी मोल नहीं ले  तनाव नहीं ले स्वास्थ्य को  प्रभावित नहीं होने दें | पैसा होने का घमंड नहीं करेंऔर न ही  पैसा न होने की वजह से अपने आप को हीन महसूस करें |  अमीर बनने के लिए कोई शॉर्टकट नहीं अपनाए  |  अमीर लोगअपना फर्ज समझ कर  गरीबों की हर संभव   मदद करें |   गरीब लोग ईमानदारी से अपने कर्तव्यों का पालन महनत धैर्य और लगन से करें |  इतिहास इस बात का गवाह है कई गरीब लोग ईमानदारी और महनत  के दम पर अमीर बने  है | अमीरी और गरीबी के इस  असमंजस को ख़त्म कर तनाव मुक्त होकर जीवन का परम आनंद प्राप्त किया जा सकता है |

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.