धर्म का अर्थ धर्म का असली रूप स्वार्थ की बेड़ियाँ

April 11, 2019

धर्म का अर्थ शायद  हम समझ नहीं पा  रहे हैं और यही वजह है की अक्सर लोग धर्म संकट में पड़ जातें हैं | अपने जीवन को सही तरीके  से ता  उम्र नहीं जी पाते हैं |  जीवन का आनंद नहीं ले पाते हैं |धर्म और जीवन  दोनों एक दूसरे के सहयोगी हैं जो लोग धर्म और जीवन को नहीं समझ पाते  वो अपने जीवन को बेड़ियों में उलझा कर उसे  अपने धर्म का पालन  करना समझतें हैं |  जबकि कोई भी धर्म यह नहीं कहता की धर्म के पालन के  लिए अपने आप को  या दूसरों को बेड़ियों में बांधकर  दुःख पहुंचाओ |
https://images.app.goo.gl/JzwEXjtn8HGDhGfL8

अक्सर हम अपने आप को या दूसरों को बेवजह आसान जीवन जीने की जगह कठिन जीवन जीने की सलाह देने को अपना धर्म  समझतें हैं जीवन के नियम कायदे हम अपने आप को मुसीबत से बचने के लिए  बनाते हैं, हमारी व्यवस्थाओं को सुचारु रूप से चलाने  के लिए और  हमारी आत्मसंतुष्टि के लिए बनाते है |फिर इन्हे बेवजह बोझिल और कठिन बनाने की क्या आवश्यकता है ?
https://images.app.goo.gl/63Vhub71R75Lfryn6

  धार्मिक ग्रन्थ चाहे वो किसी भी धर्म से सम्बंधित हो यह सन्देश नहीं देता की धर्म के नाम पर लोग दंगे फसाद करे एक    दूसरे के  खून के प्यासे हो जाएं गीता कुरान  बाइबल गुरुग्रन्थ या कोई भी धार्मिक पुस्तक जातिगत  भेदभाव  नहीं करती , चोरी अन्याय की तरफदारी नहीं करती, पर्यावरण को प्रदूषित करने के उपाय नहीं बताती , स्त्री पुरुष के  मर्यादा को नहीं तोड़ती , पुरुष के प्रति स्त्री और स्त्री के प्रति पुरुषों के सम्मान को ठेस पहुंचाने वाली किसी बात का समर्थन नहीं करती | फिर क्यों हम अपने आप को धार्मिक कहने के बाद भी इन सभी बातों से अनजान बने रहकर सारी  ज़िंदगी इन्ही बातों में उलझकर जिंदगी के आनंद को ख़त्म कर लेते हैं |
https://images.app.goo.gl/njW26fkFHyf1r66z9

 असल में हम अपने अपने धर्मों के प्रति तो सावधन होना चाहतें हैं लेकिन जो एक मानवीय धर्म है उसकी जब हम बात करते हैं तो वहाँ हमारे स्वार्थ आड़े आने लगते हैं फिर न हम हमारे धार्मिक ग्रंथों पर गौर करते  हैं न हमारे सामाजिक नियमों पर वहां हम सिर्फ हमारे स्वार्थ पर गौर करतें हैं  की किसी तरह से वो हो जाए जो हम चाहतें हैं फिर हम मानवता भूल जातें हैं, सदभावना  भूल जातें हैं, मर्यादा भूल जाते  हैं, अच्छा बुरा भूल जातें हैं, गीता कुरान बाइबल के सन्देश भूल जातें  हैं |
https://images.app.goo.gl/ZRyA7rddBL9oPiz66

धर्म का असली रूप  देखना चाहतें हैं तो हमारे जीवन में हमने स्वार्थ के नाम पर जो धार्मिक बेड़ियाँ बाँधी  हुई है उन्हें खोल कर रखें   हर मनुष्य के प्रति सदभावना  रखें पुरुष स्त्री के प्रति और स्त्री पुरुष के प्रति सदभावना रखें जीवन और धर्म को एक साथ जोड़कर देखें गीता कुरान बाइबल को समझें सभी का सार  एक  ही  है सभी प्रेम मानवता और सदभावना  का सन्देश देतें हैं  इसलिए  धर्म कोई भी अपनाये लेकिन उनके प्रेम मानवता और सदभावना के संदेश पर गौर अवश्य करें धर्म की सबसे बड़ी जीत  यही है | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.