मनुष्य एक प्राकृतिक उपहार है लेकिन मशीनी होता जा रहा है

April 25, 2019
मनुष्य एक प्राकृतिक उपहार है |  जिस तरह से प्रकृति की देखभाल करना हमारी ज़िम्मेदारी है उसी तरह हमारी स्वयं  की  देखभाल करना भी हमारी स्वयं की ज़िम्मेदारी है |  आज के इस डिजिटल  युग में हर इंसान मशीनी होता जा रहा है उसने भी मशीनों की तरह अपनी सेवाएं 24 x 7 x 365 कर दी है जिस तरह से मोटर गाड़ियों की   एक्स्पायरि 15 वर्ष होती है 15 वर्षों के बाद वह गाड़ी दिखती तो रहेगी लेकिन सड़क पर चलने लायक नहीं कही जा सकती |
https://images.app.goo.gl/cPaj1upqy9qfPNav6


 दवाइयों के ऊपर उनकी एक्सपाइरी अंकित होती है वह इसलिए की जिस तरह  मशीनों के  कलपुर्जों की उम्र निश्चित होती है उसके बाद उनका उपयोग करना खतरनाक हो सकता है यही दवाइयों के मामले में भी  होता  है मनुष्य की उम्र निश्चित नहीं है लेकिन पता नहीं क्यों मनुष्य 24 घंटे 365  दिन सेवाएं देकर अपने आप को मशीन बनाए हुए है और अपनी भी एक्सपाइरी डेट तय करवाने और अंकित करवाने पर तुला हुआ है मशीन के कलपुर्जों को  अपने 15 वर्ष के जीवन काल में भी मरम्मत की आवश्यकता होती है और उसके कलपुर्जों की मरम्मत वह स्वयं नहीं करवा सकती इसके लिए उसे किसी और पर निर्भर होना पड़ता है |
https://images.app.goo.gl/y6pvs4AWLLEhNdK77

 सोच कर देखें क्या मनुष्य को उसके इतने लम्बे जीवन काल में  अपने अंगों की मरम्मत की आवश्यकता नहीं होती क्या इसके लिए उसे मशीन की तरह  किसी और पर निर्भर होने की आवश्यकता है क्या यह सोचने वाली बात नहीं है की हम अपने बच्चों को  भी 24 घंटे 365 दिन वाली मशीनी ज़िन्दगी देने जा रहे हैं  ?याद रखें  आप के स्वास्थ्य की देखभाल आप स्वयं जितनी सही तरीके से कर सकते है उतनी अच्छी तरह से कोई और नहीं कर सकता यदि आप अपने स्वास्थ्य की देखभाल दूसरों के भरोसे छोड़ रहे है तो आप गलती कर रहे है अपने स्वास्थ्य का ध्यान स्वयं रखें  शरीर  को मशीन नहीं बनाये जीवन को आसान बनाने के लिए शरीर का स्वस्थ होना निहायत जरूरी है इसलिए कहा  जाता है स्वास्थ्य ही सबसे बड़ी दौलत है |

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.