दुनिया में कहीं कोई चीज़ अपने आप में सम्पूर्ण नहीं होती

April 23, 2019
गंगाजल में दुनिया  की सारी गंदगी मिली होने के बावजूद भी उसे शुद्ध माना जाता है क्यों ? क्या आपने कभी सोचा है की ऐसा क्या है गंगाजल में जो उसे साधारण जल से भिन्न बनाता है ? यह गंगाजल की प्रवृत्ति है ,   गंगाजल के प्रति लोगों की आस्था विश्वास है  |  कमल हमेशा कीचड़ में ही खिलता है |  कीचड़ में खिला होने के बावजूद कमल खिला - खिला मुस्कुराता नज़र आता है |     गुलाब की यदि बात की जाए तो कांटो के बीच रहकर भी उसके सुर्खपन में  कभी  कोई कमी  नहीं आती |
https://images.app.goo.gl/iEjxUKc9qokE1XyY7

  जिस तरह गंगाजल में गंदगी मिलने के बावजूद गंगाजल  अपने गुणों  को नहीं खोता है  |  दूसरी बात  गंदगी उसके साथ मिलने पर भी वह लोगों की नज़र में शुद्ध गंगाजल ही है |  कमल कीचड़ की गंदगी में पलकर बड़ा होता है खिलता है |  वह गंदगी ही उसे पालती है फिर भी वह अपनी पहचान नहीं बदलता |  गुलाब काँटों की संगत में भी दूसरों को  खुशियां बाँटता है क्योंकि काँटे  भी कभी - कभी उसकी रक्षा करते हैं   |
https://images.app.goo.gl/d2AF55bTF2q4uWvw6

 दुनिया में कहीं कोई चीज़ अपने आप में सम्पूर्ण नहीं होती बल्कि गुण - अवगुण  ,अच्छाई- बुराई , सच- झूठ , का यदि आंकलन सही तरीके से किया जाए तो ये सब एक दूसरे के पूरक होते हैं   |  यानी सच होगा तो कही न कही झूठ भी उसके साथ होगा   |    जहाँ गुण  होंगे वहां अवगुण भी मौजूद होंगे  | जहाँ अच्छाई होगी वहां बुराई भी अपना स्थान बना लेगी  |  बात है नज़रिया आस्था विश्वास  की और इन्ही की वजह से अवगुणो को गुणों में तब्दिल  किया जा सकता है |  बुराइयों को अच्छाइयों में बदला जा सकता है |  गलत को सही किया जा सकता है |  दुःख को सुख में बदला जा सकता है |  नफरत करने वाले को प्रेम करना सीखाया  जा सकता है |  असफलता  को सफलता में बदला   जा सकता है |
https://images.app.goo.gl/22wP8jLJx7vvvViq7

और सबसे बड़ी बात चाहे घर परिवार हो  या संसार का  कोई भी कोना हो  प्रेम   रखे बिना  कहीं भी सुख शान्ति  भाईचारे की कल्पना नहीं की जा सकती | और प्रेम रखने , प्रेम निभाने, प्रेम की बात करने के लिए  नफ़रत,  गुस्सा, इर्ष्या , द्वेष ,स्वार्थ जैसी  प्रवृतियो को छोड़ना होगा |  फिर आपको भी कभी न कभी कहीं  न कहीं  कमल , गुलाब और गंगाजल की उपमा से नवाजा जायेगा  | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.