जरूरी है संतुष्ट करने और संतुष्ठ होने का गुण

April 12, 2019
कुछ लोग  लोगों को  संतुष्ट नहीं कर  पाने की वजह से अपने मन को दुखी कर लेते हैं  | तो कुछ लोग लोगों से संतुष्ट नहीं हो पाने की वजह से अपने आप को दुखी रखते हैं |  दुखी होने की दोनों ही वजह गलत है |  व्यक्ति में संतुष्ट करने और संतुष्ठ  होने का गुण होना जरूरी  है |
https://images.app.goo.gl/1G73wCchj9Lx5YVK7




  जीवन में कईअवसर ऐसे आते हैं जब हम बेवजह संतुष्ट नहीं होते हैं और  दुखी रहते हैं जबकि  वजह कोई बड़ी नहीं होती है |  छोटी छोटी बातों  की असंतुष्टि  से मन को दुखी करने की कोई आवश्यकता  नहीं होती है  ये तो जीवन भर चलने वाली कहानी होती है |  इसके लिए हमे दूसरो  को संतुष्ट करने अपनी बात को सही तरीके से नहीं कह  पाने किसी ऐसे काम को  ना नहीं कह पाने जिसमे किसी  की नाराज़गी की संभावना ही  नहीं होती उसके लिए भी हम ना  नहीं कह पाते हैं  |
https://images.app.goo.gl/ojgtq5JbNwcdv9oj8

यही वजन हम दिल पर रखकर असंतुष्ट रहते हैं की इसका भी कोई बुरा मान लेगा तो,   कोई ऐसा सोच लेगा तो, कोई नाराज़ हो जायेगा तो, कोई गलत समझ लेगा तो, कोई ना  नहीं सुन पाएगा तो , किसी ने हम में कोई कमी निकाल दी तो ,अधिकतर बातो में हम  तो पर आकर रुक जाते हैं  | ये तो शब्द हमे  सबसे ज़्यादा नेगेटिव करता है और जितना हम इस शब्द के बारे में सोचते हैं उतना इस तो शब्द से कुछ बिगड़ता नहीं है |  हम बेवजह इस तो शब्द की वजह से अपने  आप को दबा हुआ हिन् बुद्धिमान असंतुष्ट बना कर रखते हैं | 
https://images.app.goo.gl/ci3ypEXS5tvrkvpk6


  इस तो शब्द से जितना हम  डरते हैं उतना ये डरावना होता नहीं है इसलिए  तो शब्द से बाहर निकल कर देखो दुनिया बहुत आसान लगने लगेगी  इस तो शब्द  की वजह से कई आसान और सही काम  भी हम गलत   कर देते हैं और बाद में दुखी और असंतुष्ट होकर  घर  बैठ जाते हैं  जिस तो की वजह से   हम कुछ   कर  नहीं   पा रहे थे उसे  कोई बिना तो के  आसानी से कर जाता है | और हम हाथ मलते   रह जाते हैं    फिर हम यह कहते हैं हम तो..... इसलिए और उसलिए नहीं कर पाए थे |  

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.