हम बच्चो को मत बहकाओ

March 19, 2019

धर्म और आतंक की इस लड़ाई में एक बच्चे की पीड़ा जो कविता के जरिये  होली और ईद के त्योहारों में भाई चारे की उम्मीद जगाती है 

 हम तो होली मना रहे हैं रंगों और गुलालों की
मेरे पापा खेल रहे हैं होली लहू के रंगों की

                       https://goo.gl/images/c861jE

पूछ रहा है एक ये बेटा उन आतंकी जल्लादों से
 धर्मों को ऊंचा ले जाकर तुम कैसे उठ पाओगे ?
फिर धर्मों की सीढ़ी चढ़कर कहाँ आकाश बनाओगे ?
पैर जमीन पर रखकर ही तो सीढ़ी चढ़कर जाओगे ?
बिखरे लहू के कतरे कतरे सीढ़ी कहाँ लगाओगे ?

.https://goo.gl/images/bDqb74


त्योहारों का देश है मेरा सब धर्मों को  संदेश है  मेरा
असलम मियां दोस्त है मेरा भानू  पंडित प्रिय है उसका
मेरी होली नहीं मनी  तो क्या असलम खुश हो जायेगा?
उसकी ईद नहीं मनी  तो मैं  कैसे खुश हो पाऊँगा?

.https://goo.gl/images/HR3hxo

मेरी गुजियों की खुशबू जब उसके घर को जाती है
उसकी अम्मी सेवइँ लेकर मेरे घर पर आती है
मेरी मम्मी उसकी अम्मी जब त्यौहार मनाती है
दुनिया भर की सारी  खुशियां दोनों घर में आती है

.https://goo.gl/images/9RXGZS

हम बच्चों को मत बहकाओ धर्मों की खिल्ली न उड़ाओ
बंद करो ये लड़ना लड़ाना तोप  तमंचों को गर्जाना
बंद करो यह लहू बहाना हम बच्चों को है देश बचाना
 हम तो होली मना रहे हैं रंगों और गुलालों की
मेरे पापा खेल रहे हैं होली लहू के रंगों

                                                      LIKE SHARE AND SUBSCRIBE

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.