मन से निकली ख़ुशी लोगों का ध्यान आकृष्ट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है

January 06, 2019
अंदर के मन से निकली हुई ख़ुशी और चेहरे पर दिखाई देने वाली ख़ुशी में  अंतर होता है मन से निकली हुई ख़ुशी पूरे शरीर को तारो ताजा रखती है उमंग से भरे  रखती है हमारे अंग - अंग में नजर आती है  हमे चुस्त दुरुस्त रखने में मन के अंदर से निकली हुई ख़ुशी का महत्वपूर्ण योगदान होता है |
https://goo.gl/images/ayRcA5

 जो लोग सिर्फ चेहरे से ख़ुशी प्रदर्शित करते हैं उनके शरीर के हर अंग में ताज़गी नहीं दिखाई देती उनका मन तो बीमार होता ही है चेहरा भी बीमार दिखाई देता है क्योंकि मन की ख़ुशी में बनावटी पन  नहीं होता  जबकि चेहरे की ख़ुशी बनावटी होती है जो कुछ समय बाद स्वतः  ही काफूर हो जाती है|
https://goo.gl/images/Xv6hGb

मन की ख़ुशी लोगों का ध्यान आकृष्ट करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है |  जब इंसान मन से खुश होता है तो उसकी हरकते ही इस तरह की होती है की लोग उसे देखे बिना नहीं रह सकते जो लोग  गांठे पाल कर   रखते हैं वो अपने मन की  ख़ुशी को ताले  में बंद करके रखते हैं उसे बहार निकलने से रोके  रखते हैं जिससे चेहरा दुखी और उदास नज़र आता है |
https://goo.gl/images/vHDtg2

मन पर लगाए हुए तालों की वजह से  ख़ुशी के मौकों  पर भी ऐसे लोग खुश रहना भूल जाते हैं इसलिए  खुश रहना चाहते हैं तनाव मुक्त रहना चाहते हैं तो अपने मन के  अंदर लगाए तालों को खोल कर देखे सिर्फ चेहरा ही नहीं शरीर का हर अंग खुशियों से झूम उठेगा | हम यह अक्सर भूल जाते  की मन से निकली हुई ख़ुशी न सिर्फ हमे खुश रखती है  बल्कि दूसरों  को भी खुश रहने  लिए प्रोत्साहित करती है  |
https://goo.gl/images/1qGGQt

अक्सर खुश रहने वाले लोग लोगों के दिलों में  जगह बनाने में कामयाब होते है मन से खुश रहने वालो  के पास  सफलता के अवसर दुखी और निराश लोगो से ज्यादा होते है | इसलिए मन को खुश रखने  लिए बात - बात  में दुखी रहना छोड़े ईर्ष्या, द्वेष, क्लेश से   बचे |  परेशानियों समस्याओं  का रोना रोने के  बजाए सकारात्मक होकर उनका  हल निकालने का प्रयास  करें |   जीवन को आसान बनाने का इस से सस्ता और अच्छा तरीका कोई और नहीं है | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.