मानसिक और शारीरिक विकारों से मुक्त होकर ही लिया जा सकता है आर्थिक उन्नति का आनंद

January 16, 2019
आज अधिकतर लोग शारीरिक ,  मानसिक और आर्थिक समस्याओं से जूझ रहे हैं ये तीनों ही परिस्थितियां परिवार की स्थिति को बनाने या बिगाड़ने में महत्वपूर्ण होती है इन्हे बनाने और बिगाड़ने के लिए हम और हमारा परिवार ही जिम्मेदार होता है |ये परिस्थितियां अक्सर बिगड़ती है हमारे स्वार्थ हमारी लापरवाहियों हमारे मतभेदों स्वभाव सिद्धांतों की वजह से  और इनके लिए हम बिना विश्लेशण किये किसी को भी दोष दे देते हैं कभी सरकार को कभी पडोसी को कभी रिश्ते नातों को लेकिन हम हमारी लापरवाहियों आदतों और स्वभाव को नज़रअंदाज कर जाते हैं    जानिए  आर्थिक मानसिक और शारीरिक समस्याओं से मुक्ति   के आसान उपाय   नमस्कार दोस्तों , क्या आप भी  आर्थिक, मानसिक और शारीरिक समस्याओं से दुखी है यदि हाँ तो मत होइये  परेशान क्योंकि  हम लेकर आये है आर्थिक, मानसिक और शारीरिक विकारों से मुक्ति   के आसान उपाय क्योंकि मानसिक और शारीरिक समस्याओं से  मुक्त  होकर ही लिया जा सकता है आर्थिक उन्नति का आनंद यदि जीवन का आनंद लेना चाहते है तो यह लेख पूरा पढ़े | 
https://goo.gl/images/3Xu9TV

 यदि हम सही विश्लेषक हैं तो हमे सबसे पहले अपनी आदतों  लापरवाहियों सिद्धांतों और स्वभाव पर गौर करना चाहिए और वजह तलाश करनी चाहिए  की की हमारी आर्थिक मानसिक और शारीरिक समस्याओं की मुख्य वजह  क्या है ?हम पाएंगे समय का सही प्रबंध नहीं कर पाना अपनी आदतों और स्वभाव में परिवर्तन नहीं लाना अहम् और वहम को नहीं त्यागना ईर्ष्या लालच द्वेषता को पाल कर रखना  छोटी छोटी बातों में उलझना एक दूसरे को नीचा दिखाने की कोशिश करना नकारात्मक सोच रखना यही बातें हमारे आर्थिक मानसिक और शारीरिक विकास में बाधक होती है |कही  आप आर्थिक उन्नति के लिए मानसिक और शारीरिक परेशानियों को मोल तो नहीं  ले रहे हैं
https://goo.gl/images/5GqiyL
  
यदि आप मानसिक और शारीरिक विकारों से मुक्त होंगे तो आर्थिक उपलब्धियां हांसिल करना कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन हम कर उल्टा रहे हैं हम आर्थिक उन्नति के लिए मानसिक और शारीरिक परेशानियों को मोल ले रहे हैं यही वजह है की आर्थिक स्थिति अच्छी  होने के बावजूद भी हम मानसिक और शारीरिक समस्याओं से घिरे हुए हैं
https://goo.gl/images/ZQoW1G

आर्थिक उन्नति का मजा भी आप तब ही ले पाएंगे जब आपका मन खुश  होगा प्रसन्न होगा शरीर स्वस्थ होगा वरना  दूसरों के भरोसे  लाचार  जीवन तो जानवर भी जीते ही हैं इंसानी   रूप में  जीने के लिए अपने आप को शारीरिक और मानसिक रूप से स्वस्थ और सक्षम बनाये  यह एहसास इंसान को कभी न कभी ज़रूर  होता है परन्तु मरने के बाद नरक में जाने से पहले यदि हो तो जीते जी आप स्वर्ग का आनंद ले सकते हैं  वरना शारीरिक और मानसिक विकारों की वजह से  नरकिय जीवन  तो  रोज जीते जी भी जी  ही रहे हैं \

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.