किताबी ज्ञान के साथ- साथ मानवीय और सामाजिक मुल्यों का विकास कर अपनी कॉलेज यात्रा को स्वर्णिम बनाया जा सकता है

December 23, 2018
स्कूली जीवन  और कॉलेज जीवन में कुछ समानता  होती  है, कुछ असमानता |  स्कूली जीवन जहाँ  समय की पाबंदी ,दैनिक उपस्थिति, ड्रेस कोड, टीचर्स की नज़दीकी, होम वर्क का  तनाव बच्चे को स्कूली होने का एहसास कराता है |  स्कूलो में   पिंजरे के पंछी  तरह बच्चे फड़फड़ाते नज़र आतें हैं |  जैसे ही वे कॉलेज की दहलीज पर कदम रखते है ख़ुशी के मारे   उन्मुक्त गगन में पंछी की तरह चहकने और पंख फैलाकर उड़ने का मन करता है   | 
https://goo.gl/images/ce9JkP

 200 वर्षों की अंग्रेज़ों की गुलामी के बाद प्रथम स्वतंत्रंता दिवस मनाने पर जिस ख़ुशी  का एहसास लोगो को हुआ था वही एहसास  स्कूल से कॉलेज में पहुंचने पर विद्यार्थियों  को  होता नज़र आता है |  जो बच्चे इस स्वतंत्रंता का यूज़ करना चाहते हैं वो उड़ना तो चाहते हैं    लेकिन अपनी सरहदों को ध्यान में रखकर |  
https://goo.gl/images/nv5ixE



 कई विद्यार्थी इस स्वतंत्रता से , मिसगाइड  होते हैं वे इसका मिसयूज करते हैं और खुद भी दुर्घटनाओं का शिकार होते हैं दूसरो को भी दुर्घटनाग्रस्त करते हैं |  स्कूली जीवन में हम अपने माता पिता के सपनो को पूरा करते हैं |  अपने सपनो को पूरा करने की शुरुआत कॉलेज लाइफ से होती है , जहां हमारी सोच समझ, पढाई -लिखाई  के साथ- साथ हमारी व्यक्तिगत लाइफ के बारे में भी  बनती है | 
https://goo.gl/images/pm9nBJ


  यही समय हमारे व्यक्तित्व के निर्माण का होता है, हमारी पहचान बनाने का होता है,  ,  पारिवारिक जिम्मेदारियों को निभाने का भी होता है | यही समय हमारी मौज मस्ती का भी होता है ,  हमारे शैक्षणिक  जीवन की सबसे कड़ी तपस्या का समय कॉलेज जीवन ही होता है | 
https://goo.gl/images/SwezyT


 अधिकतर नाज़ुक मसलो को हल करने की चुनौती कॉलेज लाइफ में ही होती है |  माता -पिता के मान सम्मान प्रतिष्ठा की पूंजी को हम इसी दौर में घटा बढ़ा सकते हैं |  यही वह समय होता है जब हमारे निर्णयों से हमारा भविष्य  प्रभावित होता है |  किताबी ज्ञान के साथ- साथ मानवीय और सामाजिक  मुल्यों  का  विकास कर अपनी कॉलेज यात्रा को स्वर्णिम बनाकर  कॉलेज लाइफ का भरपूर आनंद लिया जा सकता है अपने और अपने परिवार की मान सम्मान प्रतिष्ठा को बुलंदी पर पहुचाया जा सकता है | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.