जैसा खाओगे अन्न वैसा रहेगा मन ओर मन पर ही जीवन का आनंद निर्भर है।

November 05, 2018
                           खान पान  का लोगों  का अपना अपना नजरिया होता है
                         किसी को  खाने से  ख़ुशी मिलती है किसी को   खिलाने से
                                 लेकिन दोनों में मन का होना बहुत जरूरी है
                        मन से खाने और खिलाने में परम आनंद का एहसास होता है  

कहा जाता है जैसा खाओगे अन्न वैसा रहेगा मन ओर मन पर ही जीवन का आनंद  निर्भर है। क्योकि मन ही हमें दुखी करता है मन ही हमें सुखी मन ही हमें परेशानियों मे डालता है मन ही समस्याओं से निकालता है मन ही दुविधा में फँसाता है मन ही दुविधा से सुलझाता है। जिस व्यक्ति ने मन पर विजय पा ली उसने समस्याओं के रहते भी जीवन जी लिया अपने मन को प्रसन्न रखकर हम दूसरों के मन को खुशी दे सकते हैं। और दूसरों को खुशी देने से बड़ा सुख कोई और हो नही सकता रही बात भोजन की तो मन को प्रसन्न रखने में खाने का बड़ा महत्व है।

https://goo.gl/images/ehyJrS

       यदि हम पोष्टिक भोजन ग्रहण करेंगे तो हम स्वस्थ रहेंगे शरीर स्वस्थ रहेगा अक्सर हम भोजन को स्वाद की द्रश्टि से ग्रहण करते हैं स्वास्थय की दृषि्ट से नही यह सच है कि स्वादिष्ट भोजन हमे खाने मे अच्छा लगता है परन्तु स्वस्थ शरीर के लिए स्वाद के साथ साथ पौष्टिकता भी जरूरी है यह जरूरी नही कि हम बादाम, काजू, घी, दूध से भोजन को पौष्टिक बनाए हम कम खर्चे में सब्जियों तथा विभिन्न प्रकार के अनाजों से भी भोजन को पौष्टिक बना सकते है। और सन्तुलित आहार ग्रहण कर सकते हैं किन्तु इसके लिए हमें जानकारी हाँसिल करते रहना चाहिए ।
https://goo.gl/images/tz1Wzy

      यह तो हुई हमारे लिए भोजन की बात हमें दूसरों के भोजन का भी ध्यान रखना चाहिए। दुनिया में आज भी करोड़ों लोग हैं जिन्हे भर पेट भोजन नसीब नही होता और जिन्हे नसीब होता है वह इसे व्यर्थ कर देते हैं। घर में भोजन बनाते वक्त परिवार के अलावा  एक व्यक्ति से अधिक का अतिरिक्त भोजन न बनायें। खाने में एक बार में  अधिक भोजन नही लें आवश्यकता पड़ने पर दोबारा ले लें।
https://goo.gl/images/yNr1ot

    यही बात कहीं बाहर शादी विवाह में अथवा रिश्तेदारी में जाने पर ध्यान रखें एेसा करना आपकी सभ्यता का परिचायक तो है ही साथ ही अन्य लोगों के खाने की व्यवस्था को बनाने में मददगार होगा। बच्चों को विशेष रुप से हिदायत दें ताकि अनावश्यक व्यर्थ न हो अक्सर देखने में आता है कि लोग शादी विवाह में अनावश्यक खाना अपनी प्लेट में रख लेते हैं और फिर झूठन छोड़ देते हैं इस पर नियंत्रण आवश्यक है।
https://goo.gl/images/Z7UZu2

      हो सकता है भोजन बचने पर एेसे व्यक्तियों के काम आ जाएे जिन्हें स्वादिष्ट भोजन कभी नसीब ही न हुआ हो। एक महत्वपूर्ण बात जब हम निमंत्रण देकर लोगों को भोजन पर बुलाते हैं उनकी आव-भगत करते हैं मान-मनुहार में कमी नही रखते हैं। यथाशक्ति हम उन्हें अच्छा से अच्छा भोजन उपलब्ध कराने की कोशिश करते हैं। किन्तु कभी-कभी कुछ बिन  बुलाए व्यक्ति भी भोजन करने आ जाते हैं जिन्हें हम भगा देते हैं
https://goo.gl/images/ZE7vPd

      याद रखें बिन  बुलाए व्यक्ति वो हैं जिन्हें हकीकत में भोजन की आवश्यकता है। हम  इतने लोगों को निमंत्रण देकर बुलाते हैं और चंद एेसे  लोगों को भोजन से रोक देते हैं जो गरीब हैं बेसहारा हैं वास्तव में भोजन की आवश्यकता उन्हें होती है। एेसे लोगों को सम्मानपूर्वक भोजन कराएें क्या  पता कौन कब क्या आशिर्वाद दे जाएे?

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.