क्या आप जीते जी लेना चाहतें हैं स्वर्ग का आनंद ?

October 31, 2018
स्वर्ग नर्क की हम सिर्फ बातें करतें हैं ऐसा कहा जाता है जो जीवन में अच्छे कर्म करता है वह मरने के बाद स्वर्ग में जाता है और जो बुरे कर्म करता है उसे मरने के बाद नर्क नसीब होता है | प्रश्न दिमाग में बहुत सरे होतें हैं | 

https://goo.gl/images/wAzjcY
क्या स्वर्ग नर्क सिर्फ कर्मों का फल होता है ? क्या स्वर्ग नर्क नसीब पर निर्भर करता है ? मरने के बाद हर व्यक्ति स्वर्ग में जाना चाहता है | ऐसा मरने के बाद ही क्यों सोचा जाता है ? क्या जीते जी स्वर्ग की कामना नहीं की जा सकती ? जिस स्वर्ग के आनंद को हम मरणोपरांत भोगना चाहतें हैं क्या हम उस स्वर्ग के आनंद को जीते जी नहीं भोग सकतें है ?

https://goo.gl/images/KxjX2g
 हर वो पल जो हमे खुशियां देता है हमारे मन को प्रसन्नता देता है जिन बातों से हमारा मन बल्लियों उछालना चाहता है यह सब कुछ स्वर्ग का आनंद ही है | जब हमारा मन उदास होता है ,दुखी होता है, मायूस होता है, जिस बात से हमे जीवन जहर के समान लगने लगता है यह नर्क भोगना ही होता है | 

https://goo.gl/images/SpVond


 वास्तव में स्वर्ग और नर्क का एह्सास करना चाहतें हैं तो उस समय करके देखे जब आपका मन खुद भी प्रसन्न होता है और दूसरों को भी प्रसन्नता देता है | इससे बड़ा स्वर्ग का एहसास शायद ही और कोई हो | नर्क के लिए भी अपने और दूसरों के मन को टटोल कर देखना होगा | जब हमारा मन दुखी होता है और हमारी वजह से दूसरों का मन दुखी होता है | ये दोनों बातें हमे नर्क के द्वार की पहचान कराती है | मरणोपरांत स्वर्ग भोगने से अच्छा है हम जीते जी खुद प्रसन्न रहकर और दूसरों को ख़ुशी देकर स्वर्ग का आनंद प्राप्त करें | 



यदि आपको ये आर्टिकल अच्छा लगा हो तो LIKE करें FOLLOW करें 

और SHARE करें 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.