प्रेम ही एक ऐसी अदभुत चमत्कारिक शक्ति है जो हमे सच्चाई और ईमानदारी की तरफ ले जा सकती है

October 21, 2018
गुस्सा एक स्वाभाविक क्रिया है गुस्सा दोस्त पर भी आ सकता है दुश्मन पर भी परन्तु अधिकतर लोग गुस्से का प्रदर्शन नफरत को शामिल करके करते हैं |
https://goo.gl/images/ZySHws
जब गुस्से में नफरत शामिल हो जाती है तो वह गुस्सा गुस्सा नहीं रहता बल्कि हिंसा बन जाता  है गुस्से में यदि प्रेम  हो तो वह गुस्सा तुरंत उतर भी जाता है इसलिये गुस्सा करें लेकिन नफरत की जगह उसमे प्रेम को स्थान दे |
https://goo.gl/images/pYzF9e
गुस्सा करने वाले को भी समझाइये  गुस्सा करें  अवश्य लेकिन प्रेम भी जताये  क्योंकि  प्रेम ही एक ऐसी अदभुत चमत्कारिक शक्ति है जो हमे सच्चाई और ईमानदारी की तरफ ले जा सकती है |  नफरत और गुस्से की बुनियाद अपराधों को जन्म देती है हिंसा को बढ़ावा देती है | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.