स्वतंत्रता मिलने के बाद स्वतंत्रता की क़द्र कर के लाया जा सकता है सामाजिक बदलाव

October 27, 2018
स्वतंत्रता मिलने के बाद स्वतंत्रता की क़द्र कर के लाया जा सकता है सामाजिक बदलाव               
आज बिगड़ती सामाजिक व्यवस्था हर व्यक्ति की चिंता का कारण बनती जा रही है | चाहकर भी सामाजिक सुधार हम नहीं कर पा रहें हैं |  सामाजिक व्यवस्था सुधरने में शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका होती है | बच्चों की शिक्षा पर हम आवश्यकता से भी अधिक खर्च कर रहें हैं लेकिन इसके बावजूद हम सामाजिक सोच नहीं बदल पा रहें हैं | शिक्षा का सामाजिक उद्देशय पूरा नहीं कर पा रहें हैं | कानून हमारी सुरक्षा के लिए होतें हैं | कानून की मदद से सामाजिक व्यवस्था सुधारी जा सकती है लेकिन कानूनों का भी दुरूपयोग बढ़ता जा रहा है | शिक्षा और कानून की मदद से हम स्वतंत्र होकर जीवन जी सकतें हैं | 

https://goo.gl/images/C2AEmk
भौतिक सुख सुविधाओं की यदि बात करें तो आज हमारी भौतिक सुख सुविधाओं पर निर्भरता ज़रुरत से ज़्यादा हो गयी है बिना सुख सुविधा के हम एक कदम भी आगे नहीं बढ़ा पा रहें हैं | भौतिक सुख सुविधाएं हमारे जीवन को आसान बना सकती है लेकिन इनका दुरूपयोग कर हम जीवन को और कठिन बनाते जा रहें हैं | रिश्ते नातों की अपनी अहमियत होती है रिश्ते नातों की स्वतंत्रता हमारी सामाजिक व्यवस्था को सुधारने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकती है रिश्तों की स्वतंत्रता से घर परिवार में सुख समृद्धि और खुशहाली लाइ जा सकती है |

https://goo.gl/images/ek431M
 हर कोई स्वतंत्रता चाहता है लेकिन स्वतंत्रता मिलने के बाद हम स्वतंत्रता के मायने भी भूल जाते है जबकि स्वतंत्रता का सदुपयोग कर हम सामाजिक व्यवस्था को सुधरने में योगदान दे सकतें हैं बेड़ियों जंजीरों में बंधी गुलामी की ज़िंदगी से स्वतंत्र होने के लिए न जाने कितनी बड़ी क़ुरबानी देनी पड़ती है अत्याचार सहने पड़ते हैं समाजिक सोच बदल नी पड़ती है आवाज उठानी पड़ती है तब जाकर न जाने कितने लम्बे समय में हम स्वतंत्रता की ख़ुशी मानाने के नज़दीक पहुंच पाते हैं लेकिन स्वतंत्रता का पूर्ण आनंद लेने से पहले ही हम उसका दुरूपयोग करना शुरू कर देतें हैं | 

https://goo.gl/images/ZuupZ8
स्वतंत्रता चाहे एक नागरिक के रूप में हो चाहे जाति गत या धार्मिक हो स्त्री को मिले या पुरुषों को बच्चों को मिले या बड़ों को भौतिक सुख सुविधाओं की मिले या सरकारी सुख सुविधाओं की खान -पान की मिले या सड़क पर चलने की यदि हम स्वतंत्रता का सही अर्थों में उपयोग करें तो हम अपने और दूसरों के जीवन को आसान बना सकतें है | तनाव मुक्त कर सकतें हैं | सामाजिक और पारिवारिक खुशहाली ला सकतें हैं |देश के बिगड़ते माहौल को सुधारने में सहयोग प्रदान कर सकतें हैं | आजादी पाना तभी सार्थक होगा जब हम आजादी की क़द्र समझेंगे |

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.