इंसानियत दिखाने वाले का उत्साहवर्धन जरूरी है वरना लोग इंसानियत का अर्थ भूल जायेंगे

July 01, 2018
गुजरात में कच्छ के एक व्यवसाई ने न सिर्फ याददाश्त खो चुके कर्मचारी को उसके परिवार से मिलवाया बल्कि ईमानदारी का परिचय देते हुए कर्मचारी द्वारा उसकी कम्पनी में की गई नौकरी की बचत की रकम भी परिवार को लोटा कर इंसानियत की मिसाल पेश की |  

Third party image reference
हुआ यूँ की कच्छ गुजरात के कारोबारी भरत भाई गोरसिया ने संतोष उड़के नामक व्यक्ति को अपनी कम्पनी में नौकरी पर रखा | वो ये मानते रहे की कच्छ में आये भूकंप की वजह से संतोष का परिवार ख़त्म हो गया और संतोष की याददाश्त चली गई | भरत भाई ने संतोष को मनोचिकित्सक को दिखाया जिसकी वजह से उसने आधी अधूरी जानकारी अपने परिवार के बारे में भरत भाई को दी |
उस आधार पर भरत भाई ने गूगल सर्च कर मध्य प्रदेश में रह रहे संतोष के भाई को ढूंढ निकला | भरत भाई ने संतोष को उसके बिछुड़े परिवार से 22 साल बाद मिलवाने में तो मदद की ही | साथ ही उन्होंने नौकरी से बचाये हुए पैसे भी संतोष के परिवार को लौटाकर इस कलयुग में प्रेरणा दायक काम किया है | हमे भी भरत भाई जैसे लोगो का उत्साहवर्धन करना चाहिए ताकि लोग इंसानियत को शर्मसार करने के बजाए इंसानियत दिखने के लिए प्रेरित हो सके | 

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.