जानिए बच्चे क्यों करते हैं माँ की बात पर सबसे ज्यादा विश्वास मदर्स डे पर विशेष

May 14, 2018
जिस तरह बच्चे की सबसे पहली पाठशाला उसका घर होता है उसी तरह बच्चे की सबसे पहली गुरु उसकी माँ होती है | बच्चे में सबसे ज्यादा गुण उसकी माँ के होते है यह एक प्राकृतिक सत्य है | कारण यह है की बच्चा नौ महीने तक माँ की कोख में पलता है उसकी एक एक हरकत का असर उस पर होता है | जब वह जन्म लेता है और कोख से बाहर आकर आँखें खोलता है तो भले ही वह कह नहीं पाता लेकिन जैसे जैसे वह बड़ा होता है माँ के द्वारा जिस तरह उसकी परवरिश की जाती है वह उसे महसूस अवश्य करता है | यही वजह है की बच्चा सबसे ज्यादा विश्वास अपनी माँ का करता है | सबसे ज्यादा बात अपनी की मानता है |  

https://goo.gl/images/BgYo4f
 बचपन में जब तक उसकी सोच परिपक्व नहीं हो जाती तब तक वह माँ को ही सब कुछ मानता है | जिस तरह बच्चे विद्यालय में एक शिक्षक की बात को सबसे ज्यादा महत्व देतें हैं उसी प्रकार घर में बच्चे माँ की बात को सबसे ज्यादा तवज्जु देतें हैं | सही मानते हैं | पिता से भी बच्चे बहुत कुछ सीखते हैं लेकिन अक्सर माँ के पक्ष में ही खड़े देखे जा सकतें हैं | इसका यह अर्थ नहीं है की बच्चे पिता की बात नहीं मानते या पिता को तवज्जु नहीं देतें हैं | चूंकि बच्चे के जन्म के समय माँ को जो पीड़ा सहनी पड़ती है उस पीडा को प्राकृतिक रूप से बच्चा हमेशा महसूस करता है और यही वजह है की एक बार पिता की सही बात पर भी माँ के विरुद्द जाने के लिए बच्चे साहस नहीं जुटा पाते हैं | और पिता की गलत बात पर बच्चे माँ के पक्ष में खड़े नज़र आतें हैं | 

https://goo.gl/images/tb3Rhz
यह प्राकृतिक सच है जिससे पिताओं को चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है बल्कि यह पिताओं के लिए गर्व की बात है की वे ऐसे बच्चों के पिता हैं जो इस दुनिया के सबसे बड़े गुरु की शरण में हैं | और वह गुरु है माँ ऐसे बच्चे अपने भविष्य को कभी दावं पर नहीं लगने देंगे | लेकिन इस बात से माताओं की जिम्मेदारी और अधिक बढ़ जाती है इस बात का एहसास दुनिया की हर माँ को बार - बार होता रहता है | क्योंकि यदि माताओं से अपने बच्चों को घर गृहस्थी की सही और गलत का ज्ञान देने में, रिश्ते नातों का एहसास कराने में, जीवनयापन, जीने की कला और कुशलता समझाने में चूक हो गई तो बच्चों का भविष्य दांव पर लग जाएगा | सारी उम्र इसी बोझ के तले दब कर जीवन बिताने वाली माँ का स्थान जीवन में कोई नहीं ले सकता | माँ की ममता और माँ की डाँट दोनों ही बच्चों के लिये आवश्यक है | बचपन से लेकर बुढ़ापे तक जो ज्ञान माँ बच्चों को बाँटती वह ज्ञान कोई गुरु नहीं दे सकता इस दृष्टि से माँ गुरु से भी बढ़कर होती है | 

https://goo.gl/images/s61gcQ
  जिस तरह ईश्वर तक पहुंचने का रास्ता गुरु ने बताया है इस वजह से गुरु को बड़ा बताया गया है और गुरु तक बच्चे को माँ ही पहुँचाती है इस दृष्टि से माँ का स्थान गुरु से भी बड़ा होता है | माँ के इस कर्ज से हम शायद जीवन भर भी कर्ज मुक्त नहीं हो सकते सिर्फ माँ को मुस्कुराहट देकर उसको सम्मान देकर बुढ़ापे में उसकी बच्चों की तरह देखभाल करके इसे हम कुछ कम ज़रूर कर सकतें हैं | 
 माँ ही धरती माँ ही अम्बर , माँ से सारा जहाँ है
माँ की पूजा जो नहीं करता , वह कैसा इंसान है 
Happy Mother's Day
यदि आपको हमारी यह पोस्ट पसंद आई हो तो like, comment, share तथा  follow अवश्य करें |

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.