हर काम आसान बनाते हैं ये उपाय नहीं जानेंगे तो बहुत बड़े लाभ से रह जाएंगे वंचित

May 14, 2018
लोग हर चीज़ को आसान बनाने के उपाय ढूंढते हैं | कोई पैसा कमाने का आसान उपाय ढूंढता है | कोई ज़िंदगी को जीने के सरल उपाय ढूंढता है | कोई स्वस्थ रहने के आसान उपाय ढूंढ रहा है |बच्चे पढाई करने के आसान तरीकों की तलाश करतें हैं |कोई तनाव मुक्त होने के आसान उपाय खोज रहा है|

https://goo.gl/images/XSh4SU
इसका मतलब यह है की हर चीज़ कठिन लगने लगी है | पैसा कमाना कठिन हो गया है| ज़िंदगीजीना कठिन हो गया है | स्वस्थ रहने में भी कठिनाई महसूस की जा रही है| पढ़ना लिखना और भी कठिन होता जा रहा है | यही वजह है की हर कोई आसान तरीके ढूंढ रहा है | आसान तरीके मिल भी जातें हैं | सलाह भी आसानी से मिल जाती है | लेकिन सवाल यह है की आसान तरीके ढूंढ लेने के बाद भी हम उस पर अमल नहीं कर पा रहें हैं |

https://goo.gl/images/6cdGA1

 कभी- कभी पैसा कमाना हमें बहुत आसान लगता है लेकिन कमाने के तरीके कठिन लगने लगतें हैं| एक पल के लिए ज़िंदगी हमें बहुत आसान लगने लग जाती है लेकिन अगले ही पल कठिनाइयां ,परेशानियां, समस्याएं सामने नज़र आने लगती हैं | ऐसा इसलिए लगने लगता है की तरीके आसान होतें हैं लेकिन उन्हें अपनाना कठिन लगता है | आसान तरीकों को हम आसानी से स्वीकार नहीं करतें हैं | काम हम आसान और कठिन दोनों ही नहीं कर पाते हैं| आसान काम यह सोचकर नहीं कर पाते हैं की ये तो बहुत आसान है| और कठिन काम यह सोचकर नहीं कर पाते हैं की ये बहुत कठिन हे|

https://goo.gl/images/4VwjRg

 जो लोग किसी भी काम को आसानी से स्वीकार करके अमल करना शुरू कर देतें हैं उनके लिए हर चीज़ आसान होती चली जाती है | जो लोग तरीके आसान ढूंढ लेते हैं लेकिन उन पर अमल आसानी से नहीं करतें हैं उनके लिए आसान तरीके भी मुश्किल बन जातें हैं | धैर्य, लगन ,मेहनत ,ईमानदारी और प्रसन्नचित मन से किया गया हर काम धीरे धीरे आसान हो जाता है | इसके विपरीत तनाव,गुस्सा ,आलस,चापलूसी और बिना परिश्रम के किये गए काम आसान तरीके अपनाने के बावजूद हमें लाभ से वंचित कर देतें हैं |

No comments:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.