लेख - सीख

May 10, 2017
                                                                                                                           

एक छोटे से बच्चे से भी हम बहुत कुछ सीख सकते हैं 

https://images.app.goo.gl/w8MJqYWMSJATvcWE9


सीखने की कोई उम्र नही होती किसी भी उम्र में कुछ भी सीखा जा सकता है आवश्यकता है आपकी मानसिकता की आपकी शारीरिक क्षमता की आपके आत्म विश्वास की। एक छोटे से बच्चे से भी हम बहुत कुछ सीख सकते हैं |  छोटे बच्चे से उसका बचपन जीना सीख सकते है |  हम  चाहे तो  हमारी  खुद की गलतियों से दूसरों  की गलतियों से  हमारे अनुभवों से दूसरों  के अनुभवों से भी बहुत कुछ सीख सकते है

कुछ लोग अच्छा सीखना चाहतें हैं कुछ लोग बुरा



सीखने की कला भी हर किसी में नहीं होती।सीखने के ढ़ंग और तरीके भी अलग अलग होतें हैं कुछ लोग अच्छा सीखना चाहतें हैं कुछ लोग बुरा कुछ लोग नया सीखना चाहतें हैं कुछ पुराना कुछ अपने लिए सीखना चाहतें हैं कुछ दूसरों के लिए कुछ जीवन जीने के लिए सीखना चाहतें हैं कुछ जीवन बर्बाद करने के लिए कुछ सुखी रहने के लिए सीखना चाहते है कुछ दुखी करने  के लिए। यह सब कुछ निर्भर करता है आपकी सोच पर।

 रिश्तों  को हेंडल करना सीखें 


  रिश्तो को  मजबूत करना सीखें  रिश्तो को निभाना सीखें  रिश्तो के साथ तालमेल बनाना सीखें  रिश्तो का  सदुपयोग करना सीखें  रिश्तो को स्वीकारना सीखे रिश्तो में खुशियां बाँटना सीखें रिश्तो की मर्यादा सीखें रिश्तो का मान सम्मान सीखें रिश्तों  को हेंडल करना सीखें   बिगड़े रिश्तों  को बनाना सीखें रिश्तो   के प्रति वफादारी सीखें  जिम्मेदारी सीखें
https://images.app.goo.gl/mip456v1Zj9x7JN28


  सीख का दुरूपयोग नही  करे 

  जो कुछ भी हम सीखना चाहते है सीखे लेकिन यह अवश्य ध्यान रखे दूसरो के लिए गड्ढा खोदने वालो के लिए गड्ढा पहले से खुदा होता है। कीचड़ मे पत्थर फेकने से छीटे हमारे ऊपर भी पड़ सकते है। इसलिए जो सीखे उसका उपयोग सामाजिक और पारिवारिक  हित मे करे । सीख का दुरूपयोग नही  करे।
https://images.app.goo.gl/YC4KfnyeR4JNSskMA

1 comment:

यदि आपको हमारा लेख पसन्द आया हो तो like करें और अपने सुझाव लिखें और अनर्गल comment न करें।
यदि आप सामाजिक विषयों पर कोई लेख चाहते हैं तो हमें जरुर बतायें।

'; (function() { var dsq = document.createElement('script'); dsq.type = 'text/javascript'; dsq.async = true; dsq.src = '//' + disqus_shortname + '.disqus.com/embed.js'; (document.getElementsByTagName('head')[0] || document.getElementsByTagName('body')[0]).appendChild(dsq); })();
Powered by Blogger.